bijali kaise banti hai | बिजली क्या है ?

bijali kya hai | electricity क्या है ?

Content of table show

bijali kaise banti hai?  bijali kya hai – हर तरह के पदार्थ परमाणु से बने होते हैं और प्रत्येक परमाणु का एक केंद्र होता है जिसे न्यूक्लियस नाभिक कहते हैं इस न्यूक्लियस के चारों तरफ पार्टिकल इलेक्ट्रॉन और प्रोटॉन और अनचार्ज पार्टिकल न्यूट्रॉन घूमते हैं जिससे एक इलेक्ट्रॉन एक परमाणु से दूसरे परमाणु में बहने लगता है इसे ही इलेक्ट्रिसिटी या bijali कहते हैं।

bijali kaise banti hai

 

जो की उर्जा का ही एक रूप है हर परमाणु में कम से कम एक प्रोटॉन होता है हर परमाणु में प्रोटान की संख्या परमाणु के केमिकल एलीमेंट को दर्शाती है उदाहरण के तौर पर अगर एक परमाणु में एक प्रोटॉन है तब वह हाइड्रोजन है, और 29 प्रोटन है तो कापर है, 94 प्रोटान है तो प्लूटोनियम कहलायेगा। हर परमाणु में परमाणु की संख्या को परमाणु का एटॉमिक नंबर कहा जाता है।

सभी परमाणु में इलेक्ट्रॉनों की संख्या प्रोटोन के संख्या के बराबर पाई जाती है! इलेक्ट्रॉन negative charge मे होते हैं और प्रोटॉन positive charge में! लेकिन जब इलेक्ट्रॉन और प्रोटॉन के बीच संतुलन किसी बाहरी बल की वजह से अपसेट होता है! तो एक परमाणु एक इलेक्ट्रॉन प्राप्त करता या छोड़ता है! जिससे इलेक्ट्रॉन एक परमाणु से अलग हो जाते हैं तब फ्री इलेक्ट्रॉन करंट पैदा करते हैं।

बिजली के प्रकार

बिजली electricity दो प्रकार की होती है

  • स्थिर बिजली static electricity
  • गतिशील बिजली dynamic electricity

स्थिर बिजली | static electricity

स्थिर बिजली की खोज थेल्स नामक वैज्ञानिक ने किया था स्थिर bijali आवेश के रूप में होती है और इसे बहुत अधिक मात्रा में उत्पन्न नहीं कर सकते हैं इसलिए इसे एक जगह से दूसरी जगह नहीं भेजा जा सकता इसका कोई भी व्यापारिक उपयोग नहीं है यह बिजली जो पदार्थ को आपस में रगड़ कर प्राप्त की जा सकती है जैसे कांच की छड़ को रेशम से रगड़ने पर आदि।

गतिशील बिजली | dynamic electricity

गतिशील bijali को current electricity भी कहते हैं! इसका उत्पादन बहुत अधिक मात्रा में किया जाता है और इसे तारों की सहायता से एक जगह से दूसरी जगह में पहुंचाया जा सकता है यह बिजली हमारे जीवन में बहुत उपयोगी होती है किसी गतिशील bijali की वजह से आप अपने घरों में लाइट, पंखा चला पाते हैं और सभी bijali से चलने वाले उपकरण गतिशील bijali से ही चलते हैं यह बिजली हमें ऊर्जा रूपांतरण करने वाले साधनों से प्राप्त होती है जैसे सेल, बैटरी, डायनेमो, अल्टरनेटर इत्यादि।

गतिशील बिजली दो प्रकार की होती है

  1. AC alternative current – प्रत्यावर्ती धारा
  2. DC direct current – दृष्टि धारा

bijali kaise banti hai | बिजली कैसे बनती है

bijali को पैदा करने के लिए इलेक्ट्रिसिटी जनरेटर का उपयोग किया जाता है! इलेक्ट्रिसिटी जनरेटर वह डिवाइस है जो ऊर्जा के एक रूप को bijali में परिवर्तित कर देता है दुनिया में बहुत तरह के इलेक्ट्रिसिटी जनरेटर मौजूद हैं लेकिन ज्यादातर जनरेटर 1831 में महान वैज्ञानिक Michael Faraday के खोज पर आधारित है Michael Faraday के अनुसार जब एक चुंबक को तार की क्वायल के भीतर हिलाया जाता है तो इलेक्ट्रिक करंट पैदा होता है और तारों में बहने लगता है।

इन्होंने पहला इलेक्ट्रिसिटी जनरेटर बनाया था जिसका नाम फराडे डेस्क था! यह जनरेटर मैग्नेटिज्म और इलेक्ट्रिसिटी इन दोनों के बीच रिलेशनशिप पर काम करता है! और इस आधार पर सभी इलेक्ट्रोमैग्नेटिक जनरेटर काम करते हैं! इलेक्ट्रो मैग्नेटिक जनरेट में इलेक्ट्रोमैग्नेट का उपयोग किया जाता है यानी bijali से बनने वाली चुंबक बेसिक इलेक्ट्रोमैग्नेटिक जनरेटर के अंदर insulated तार की coils series होती है।

वह इलेक्ट्रोमैग्नेटिक्स सॉफ्ट rotar के चारों तरफ एक स्थिर सिलेंडर stator बनाती है! और जब रोटर तेजी से घूमता है तब तार के हर क्वायल में इलेक्ट्रिक करंट दौड़ने लगता है! जिससे एक अलग इलेक्ट्रिक कंडक्टर तैयार होता है! इस तरह तारों के अलग-अलग क्वाइलों के सेक्शन को एक साथ जोड़कर बहुत बड़ी मात्रा में करंट को पैदा कर सकते है और यह करंट बिजली के रूप में जनरेटर के पावर लाइन के द्वारा उपयोगकर्ता तक पहुंचती है।

इन्हे भी जाने –

LED tube light का उपयोग कैसे करें

What is Touch Screen | टच स्क्रीन क्या है और कैसे काम करता है | Touch Screen full information हिन्दी में

What is ROM in hindi | ROM क्या है | ROM काम कैसे करता है और ROM के प्रकार

Satellite क्या है | सैटेलाइट कैसे काम करता है जानिए आसान शब्दो मे

mobile ki ram kaise badhaye | Android Mobile की Ram कैसे बढ़ाये 4GB तक

टरबाइन क्या है

टरबाइन एक लोहे की मोटी साफ्ट पर बहुत सारे पंखों का लगा होना होता है इन पंखों पर जब पानी हवा या गर्म भाप आदि टकराते हैं तब यह पंखे घूमने लगते हैं और टरबाइन घूमने लगता है जिससे टरबाइन के सॉफ्ट में जुड़ी कुंडली भी घूमने लग जाती है और bijali का बनना शुरू हो जाता है टरबाइन को हाथ से घुमाकर bijali नहीं बनाई जा सकती क्योंकि इसको बहुत तेजी से घुमाना पड़ता है।

अल्टरनेटर क्या होता है

जहां बिजली को बनाया जाता है वहां bijali को बनाने के लिए जनरेटर का इस्तेमाल किया जाता है जनरेटर के अंदर के भाग को अल्टरनेटर कहते हैं यह दो शक्तिशाली चुंबक होते हैं चुंबको के बीच एक कुंडली लगी होती है जिसमें तांबे के तार लपेटे होते हैं bijali का उत्पादन अल्टरनेटर के अंदर ही होता है।

बिजली कौन सी चीज से बनती है

बिजली को बनाने के लिए दो तरह के साधनों का उपयोग किया जाता है प्राइमरी साधन और सेकेंडरी साधन प्राइमरी साधन वह है जो प्रकृति के द्वारा प्राप्त होता है जैसे सूरज की गर्मी हवा और ज्वार भाटा प्राइमरी साधन के अंतर्गत आते हैं परंतु साधनों से लगातार ऊर्जा प्राप्त करना बहुत कठिन होता है इसलिए उन साधनों का इस्तेमाल सीमित रूप से किया जाता है सेकंड ईयर के साधन हैं जिसमें जल, कोयला, तेल और गैस ऊर्जा का इस्तेमाल करके बिजली बनाई जाती है भारत में संसाधनों का बहुत बड़े मात्रा में इस्तेमाल किया जाता है इन साधनों के द्वारा बिजली बनाने के लिए कई प्रकार के श्रेणियों में बांटा गया है।

  • हाइड्रो इलेक्ट्रिक पावर प्लांट
  • थर्मल इलेक्ट्रिक पावर प्लांट
  • डीजल पावर प्लांट
  • न्यूक्लियर पावर प्लांट

यहां पर बिजली को बनाने के लिए अलग अलग तरीके के बारे में बताया गया है जैसे-

Pani se bijali kaise banti hai | Hydroelectric power plant

पानी के द्वारा बिजली बनाने के लिए बड़ी-बड़ी नदियों तालाबों पर बांध बनाया जाता है और पानी को स्टोर किया जाता है उसके बाद उस पानी को बहुत ऊंचाई से पाइप के द्वारा टरबाइन पर गिराया जाता है जिससे टरबाइन घूमने लगता है और बिजली पैदा होती है इस बिजली को तारों के द्वारा एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाया जाता है बिजली बनाने के लिए यह प्रक्रिया लगातार चौबीसों घंटे चलते रहती है।

इन्हे भी जाने –

Telegram kya hai ? Telegram channel और group कैसे बनाएं

OTG kya hai ? OTG क्या होता है ? ओटीजी cable कैसे काम करता है ?

Facebook account को delete कैसे करें

UPI kya hai? UPl कैसे काम करता है पूरी जानकारी हिन्दी में

DNA kya hai ? DNA क्या है in hindi

koyla se bijali kaise banti hai | thermal electric power plant

जिन जगहों पर बांध नहीं बनाया जा सकता वहां कोयले के द्वारा पानी को गर्म किया जाता है तथा उसके भाप को बहुत तेजी से टरबाइन पर डाला जाता है जिससे टरबाइन घूमने लगता है और बिजली तैयार होती है पानी को गर्म करने के लिए कोयले का उपयोग किया जाता है पानी गर्म होने के बाद भाप मे बदल जाता है भाप का तापमान 500 डिग्री से 1000 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच होता है। 

टरबाइन से गुजरने के बाद भाप को फिर से ठंडा करके पानी बना लिया जाता है फिर उसी पानी को दोबारा उपयोग में लाया जाता है कोयला जलने से जो धूआ चिमनी से निकलता है वह जहरीला होता है इसलिए इलेक्ट्रो स्टैटिक पापुलेशन यंत्र के द्वारा हानिकारक पदार्थ को अलग किया जाता है और बचा हुआ धूआ आसमान में छोड़ा जाता है।

hawa se bijali kaise banti hai 

कुछ जगहों पर जहां हमेशा तेज हवाएं चलते रहती हैं और पानी की बहुत कमी होती है उन जगहों पर पवन चक्की का उपयोग करके बिजली पैदा किया जाता है बहुत बड़े-बड़े लोहे के खंभों पर बड़े-बड़े पंखे लगाए जाते हैं जो हवा चलने पर यह पंखे घूमने लगते हैं यह पंखे घूमने से टरबाइन भी घूमने लगता है जिससे बिजली तैयार होती है।

डीजल के द्वारा bijali kaise banti hai 

डीजल से बिजली बनाने के लिए जनरेटर का उपयोग किया जाता है! यह जनरेटर डीजल के द्वारा चलाया जाता है! जनरेटर के इंजन को डीजल से स्टार्ट किया जाता है! जनरेटर में अल्टरनेटर लगा होता है जनरेटर अल्टरनेटर में चुंबको के बीच स्थित कुंडली को घुमाने का काम करता है जिससे बिजली तैयार होती है।

सौर ऊर्जा के द्वारा बिजली कैसे बनाई जाती है

सूरज के प्रकाश से बिजली बनाने के प्रक्रिया को सौर ऊर्जा कहते हैं! जब सोलर प्लेट पर सूरज का प्रकाश सीधे पड़ता है तब बिजली तैयार होती है! इस बिजली को बैटरी मे स्टोर कर लिया जाता है जिससे घरेलू उपकरण बड़ी आसानी से चला सकते हैं जैसे कूलर, पंखा, ट्यूबलाइट, टीवी आदि। 

सौर ऊर्जा से बिजली बनाने के लिए कई जगहों पर सोलर प्लांट तैयार किए गए हैं जहां बहुत अधिक मात्रा में सोलर प्लेट का इस्तेमाल करके बिजली तैयार की जाती है और तैयार बिजली को स्टोर किया जाता है और बाद में एक जगह से दूसरी जगह भेजा जाता है।

भूतापीय ऊर्जा के द्वारा बिजली कैसे बनाई जाती है | geo thermal power plant

भूतापीय उर्जा से बिजली बनाना एक नया तरीका है भूतापीय ऊर्जा या जियो थर्मल पावर प्लांट का अर्थ यह है कि भूमि के अंदर ज्वालामुखी से उत्पन्न उर्जा के द्वारा बिजली बनाना! जिस जगह पर ज्वालामुखी होता है उस स्थान में गड्ढा खोदा जाता है! और निकलने वाली ऊर्जा का उपयोग बिजली बनाने में किया जाता है। 

ज्वालामुखी का तापमान 1000 से 1500 डिग्री सेंटीग्रेड तक होता है! न्यूजीलैंड इटली तथा जापान में ऐसा तरीके का प्रयोग कर बिजली का उत्पादन किया जाता है।

न्यूक्लियर ऊर्जा के द्वारा bijali kaise banti hai

इस तरीके में यूरेनियम 235 का इस्तेमाल करके बिजली घरों में न्यूक्लियर उर्जा से बिजली बनाई जाती है 1 किलो यूरेनियम से उत्पन्न ऊर्जा की मात्रा लगभग 27 क्विंटल कोयले से उत्पन्न ऊर्जा के बराबर होती है यूरेनियम के द्वारा उत्पन्न ऊर्जा से पानी को गर्म करके भाप के द्वारा टरबाइन को घुमाया जाता है जिससे बिजली तैयार होती है भारत में न्यूक्लियर पावर प्लांट तारापुर तथा रावतभाटा जैसे जगहों पर बनाए गए हैं।

नेचुरल गैस से पावर प्लांट मे बिजली कैसे बनती है | Natural Gas Power plant

इस तरीके में भी नेचुरल गैस से पानी को गर्म करके भाप में बदला जाता है! जिस प्रकार कोयले को जलाकर पानी को गर्म करके बाप मे बदला जाता है भाप के द्वारा टरबाइन को घुमाया जाता है और बिजली तैयार होती है नेचुरल गैस जमीन के अंदर पाई जाती है जिसकी मात्रा बहुत कम होती है इसलिए नेचुरल गैस पावर प्लांट अभी तक बहुत ज्यादा विकसित नहीं हुए हैं।

Gobar se bijli kaise banti hai | Biomass Gas Power Plant

इस तरीके में भी बायोगैस पावर प्लांट बिजली बनाने के लिए बायोगैस का इस्तेमाल किया जाता है! बायोगैस की मदद से पानी को गर्म किया जाता है जिससे भाप तैयार होती है और उस भाप से टरबाइन को घुमाया जाता है जिससे बिजली उत्पन्न होती है बायोगैस पेड़ पौधों की पत्तियों जानवरों के अवशिष्ट पदार्थों से बनती है।

प्रश्न और उत्तर 

प्रश्न 1. क्या ईवीएम का उपयोग ऐसे स्थान पर किया जा सकता है जहां बिजली ना हो?

ईवीएम के लिए बिजली की जरूरत नहीं होती है ईवीएम भारत इलेक्ट्रॉनिक्स कार्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के द्वारा लगाई गई एक साधारण बैटरी पर चलती है।

प्रश्न 2. बिजली चोरी होने पर क्या क्या होता है?

बिजली चोरी करने वालो को धारा 135 और 138 के अंतर्गत सजा का प्रावधान है जिसमे जुर्माना, जेल या फिर दोनों ही हो सकता है।

प्रश्न 3. बिना बिजली के बल्ब कैसे जलता है?

बिना बिजली के बल्ब को बैटरी की सहायता से जलाया जा सकता है।

प्रश्न 4. बिजली कैसे बनती है और कहां से आती है?

बिजली को पैदा करने के लिए इलेक्ट्रिसिटी जनरेटर का उपयोग किया जाता है! इलेक्ट्रिसिटी जनरेटर वह डिवाइस है जो ऊर्जा के एक रूप को बिजली में परिवर्तित कर देता है। बिजली को पानी, कोयला, डीजल, हवा, गोबर, न्यूक्लियर ऊर्जा, सौर ऊर्जा, भू-तापीय ऊर्जा इन सभी से बनाया जाता है।

प्रश्न 5. बल्ब किससे चमकता है?

बल्ब मे एक पतली सी तार लगी होती है जिसे फिलमेंट कहते है जब बल्ब मे लगे हुये फिलमेंट पर विद्धुत प्रवाह होती है तब उच्च तापमान की वजय से फिलमेंट जलने लगता है और चमकदार दिखाई लगता है।

इन्हे भी जाने –

Hartalika Teej 2022 date | हरतालिका तीज कब है? जाने तारीख पूजा विधि और मुहूर्त

Dhanteras kab hai | Dhanteras 2022 | धनतेरस कब है ? जाने शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Diwali kab hai 2022 | Diwali 2022 | दिवाली 2022 की तारीख व मुहूर्त

karva chauth kab hai | karva chauth 2022 | करवा चौथ व्रत तारीख व शुभ मुहूर्त 2022

christmas kyu manaya jata hai ? क्रिसमस कब और कैसे मनाया जाता है ?

Share us friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!