25 दिसंबर को ही Christmas Day क्यों मनाया जाता है? जाने वजय

Google News Follow

हेलो दोस्तों आज इस पोस्ट में जानने वाले हैं कि क्रिसमस डे कब मनाया जाता है और christmas kyu manaya jata hai, क्रिसमस डे ईसाइयों का प्रमुख त्योहार है जिसको बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है यह भारत के अलावा अन्य देश में भी मनाया जाता है Christmas day हर वर्ष दिसंबर के महीने में होता है जिसका लोगों का बड़ी ही बेसब्री के साथ इंतजार रहता है। अभी दिसंबर का ही महीना चल रहा है और Christmas day 2023 आने वाला है आइये जानते है Christmas day के बारे मे की यह christmas kyu manaya jata hai और इसका इतिहास क्या है। 

christmas kyu manaya jata hai

 

पौराणिक कथाओं के अनुसार Christmas day के दिन परमेश्वर के पुत्र यीशु मसीह का जन्म हुआ था जिसके उपलक्ष में यह मनाया जाता है। क्रिसमस डे को पूरी दुनिया के लोग अपने अपने तरीके से मनाते हैं अगर आपको यह पता नहीं है कि क्रिसमस डे कब है और christmas kyu manaya jata hai तो यह जानने के लिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें जिससे कि आपको सारी जानकारी मिल सके।

 Holi kab hai 2023: जाने होलिका दहन की तारीख व शुभ मुहूर्त

क्रिसमस डे क्या है

क्रिसमस डे ईसाइयों के द्वारा मनाया जाने वाला एक मुख्य त्योहार है! जो मुख्य रूप से ईसा मसीह के जन्म दिन के उपलक्ष में मनाया जाता है! इस दिन सभी ईसाईयों और अन्य धर्म के लोग मिलकर के इसको मनाते हैं! और अपने घरों को क्रिसमस ट्री से सजाते हैं! और अपने दोस्तों रिश्तेदारों के साथ गिफ्ट मिठाइयां एक दूसरे को देते हैं! क्रिसमस डे को बड़ा दिन भी माना जाता है! इस दिन पूरे विश्व में छुट्टी रहती है! यह त्यौहार जीवन को सुख शांति बनाने की प्रेरणा देता है! अभी भी बहुत से ऐसे लोग हैं जिनको यह पता नहीं है कि christmas kyu manaya jata hai तो चलिए अब जानते हैं।

इन्हे भी जाने –

Dhanteras kab hai | Dhanteras 2023 | धनतेरस कब है ? जाने शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Navratri 2023: नवरात्रि कब है जानें महत्व, शुभ योग, घटस्थापना मुहूर्त, पूजा विधि

christmas kyu manaya jata hai

आपके मन में भी यह सवाल जरूर आया होगा कि! christmas kyu manaya jata hai तो हम आपको बताना चाहते हैं! कि पौराणिक कथाओं के अनुसार नाजरेथ नामक स्थान पर एक मरियम नाम की महिला रहा करती थी जिसका स्वभाव बहुत ही दयालु और मेहनत करने वाली थी जोकि युसूफ नाम के आदमी से प्यार करती थी एक बार ईश्वर के द्वारा गैब्रियल नामक परी को मरियम के पास भेजा और बताया कि धरती पर एक महान आत्मा जन्म लेने वाला है जिसको ईश्वर का पुत्र कहा जाएगा और उसका नाम यीशु होगा।

जिसके बाद से ही मरिया असमंजस में पड़ गई! और उसके अविवाहित होते हुए भी उससे पुत्र की प्राप्ति कैसे होगी! तब परी ने मारिया को बताया कि! यह ईश्वर का चमत्कार होगा उसने बताया कि उसके चचेरे भाई एलिजाबेथ को एक जान वैपटिस्ट नाम का एक बच्चा होगा जोकि यीशु के जन्म का कारण बनेगा। 

इसके बाद उसकी शादी युसूफ से हो जाती है और दोनों बेथहलम आ गए वहां पर उनको रहने का स्थान नहीं मिला जिस कारण इनको जानवरों के खलियान में रहना पड़ा और वहीं पर यीशु को जन्म दिया इस दिन दुनिया में हर जगह खुशियां मनाया गया और गीत गाए गए इसी दिन से क्रिसमस डे मनाया जाने लगा।

क्रिसमस डे कब मनाया जाता है

ईसाइयों का मुख्य त्यौहार 25 दिसंबर को मनाया जाता है! इस दिन को खास बनाने के लिए सभी लोग अपने अपने हिसाब से तैयारियां करते हैं! जो दुनिया भर में बड़ा दिन माना जाता है इस दिन पूरे विश्व में छुट्टी रहती है पौराणिक मान्यताओं के आधार पर 25 दिसंबर को जीसस क्राइस्ट का जन्म हुआ था जिसे ईश्वर की संतान माना जाता है बाइबिल में जीसस की कोई जन्म की दिनांक नहीं दी गई है लेकिन फिर भी 25 दिसंबर को हर साल क्रिसमस मनाया जाता है क्रिसमस के दिन ईसाई क्रिसमस ट्री को सजा कर खुशियां मनाते हैं।

इन्हे भी जाने –

Harchat 2023 mein kab hai ? हलछठ 2023 में कब है ?

Diwali kab hai 2023 ? दीपावली कब है 2023 ? दिवाली 2023 की तारीख व मुहूर्त

karva chauth kab hai 2023? 2023 में करवा चौथ व्रत कब है? 2023 करवा चौथ व्रत तारीख व समय

छठ पूजा कब है । 2023 में छठ पूजा कब है

क्रिसमस ट्री का इतिहास

क्रिसमस के दिन सभी लोग अपने अपने घरों में क्रिसमस ट्री को सजाकर खुशियां मनाते हैं! यह क्रिसमस ट्री देखने में पिरामिड की तरह दिखता है! इसका नाम सदाबहार है यह कभी भी सूखता नहीं है और ना ही इसके पत्ते मुड़ते हैं! इसी वजह से इसके लंबी आयु का प्रतीक माना जाता है लोगों का यह मानना है कि इस पेड़ को सजाने से घर के बच्चों की उम्र लंबी हो जाती है। 

Christmas day

इसलिए क्रिसमस के दिन घरों में रंग-बिरंगे लाइट और बल्ब को जलाकर क्रिसमस ट्री को सजा कर खुशियां मनाते हैं इस परंपरा को सबसे पहले जर्मनी में बीमार बच्चों को खुश करने के लिए किया गया था और इसके अलावा अन्य कथा के अनुसार जब ईसा मसीह का जन्म हुआ था तब ईश्वर और देवताओं ने अपनी खुशी को व्यक्त करने के लिए सदाबहार के पेड़ लगाए थे।

किन चीजों से क्रिसमस ट्री सजाया जाता है

क्रिसमस का दिन आने के पहले ही लोग उत्सव मनाने के लिए अपने घरों में क्रिसमस ट्री लेकर आते हैं! जोकि पिरामिड के तरह होता है जिस को सजाने के लिए मोमबत्तियां टॉफियां घंटियां आदि का उपयोग किया जाता है जिससे कि इसे अच्छी तरह से सजाकर सुंदर बनाया जा सके इसके अलावा क्रिसमस ट्री को सजाने का कारण यह भी होता है कि इसको सजाने से घर में बुरी आत्मा नहीं आती है और चारों तरफ सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है जिससे घर में सुख शांति और पैसों की तंगी नहीं होती है।

पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1. क्रिसमस कब मनाया जाता है?

क्रिसमस हर वर्ष 25 दिसंबर को मनाया जाता है जो कि पूरे 12 दिन तक अलग-अलग तरीकों से मनाते हैं।

प्रश्न 2. ईसा मसीह किसके पुत्र थे?

ईसा मसीह मां मैरी और युसूफ के पुत्र थे जिनको ईश्वर की संतान कहा जाता है।

प्रश्न 3. 25 दिसंबर को कौन सा त्यौहार मनाया जाता है?

25 दिसंबर को भारत के अलावा अन्य कई देशों में क्रिसमस का त्यौहार मनाया जाता है और इस दिन को बड़ा दिन भी मानते हैं।

प्रश्न 4. क्रिसमस 25 दिसंबर को क्यों मनाया जाता है?

पौराणिक कथाओं के अनुसार 25 दिसंबर को दिन परमेश्वर के पुत्र यीशु मसीह का जन्म हुआ था जिसके उपलक्ष में Christmas day मनाया जाता है।

प्रश्न 5. क्रिसमस के दिन किसका जन्म हुआ था?

क्रिसमस के दिन परमेश्वर के पुत्र यीशु मसीह का जन्म हुआ था ।

निष्कर्ष

आज हमने इस पोस्ट में यह जाना कि क्रिसमस डे कब है और christmas kyu manaya jata hai इसकी पूरी जानकारी आपको पता चल गई होगी और हमें पूर्ण विश्वास है कि यह पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी अगर यह पोस्ट आपको अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और नोटिफिकेशन पाने के लिए सब्सक्राइब जरूर करें।

धन्यवाद!

Share us friends

Leave a Comment