DNA kya hai | डीएनए क्या है, कार्य संरचना व सभी जानकारी हिंदी में

हेलो दोस्तों आप सब कैसे है आज की इस पोस्ट में हम जानने वाले हैं कि  DNA kya hai? DNA kya hai biology? अगर आप इ सके बारे मे नही जानते है तो आपको पता होगा कि आज हम DNA kya hai जानने वाले है तो जानने के लिए इस पोस्ट अंत तक जरूर पढ़े। 

DNA kya hai | dna kya hai biology?

दोस्तों आपने DNA  का नाम तो जरूर सुना होगा और उस से भी ज्यादा आपको DNA टेस्ट के बारे में तो पता ही होगा क्योंकि अक्सर फिल्मों और सीरियल्स में इसका जिक्र हो ही जाता है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि DNA आखिर होता क्या है, कहां पाया जाता है और यह इतना इंपॉर्टेंट क्यों होता है।

अगर इन सारे सवालों के जवाब आप जानना चाहते हैं तो आपको यह पोस्ट देखना होगा क्योंकि आज moralblog.in  के इस पोस्ट में हम आपको DNA  से जुड़ी सारी खास जानकारियां देने वाले हैं। इसीलिए इस पोस्ट को पूरा जरूर देखें और DNA  को आसानी से समझ लीजिए

DNA kya hai

दोस्तो सबसे पहले यह जानते हैं कि DNA क्या है और यह कहां मिलता है यह तो! आप जानते ही हैं कि हमारा शरीर सेल्स से मिलकर बना होता है यानी की कोशिकाओं से मिलकर और हमारे शरीर की लगभग हर कोशिका में DNA यानी  की जेनेटिक कोड पाया जाता है! सिर्फ RBC यानी कि रेड ब्लड सेल्स में DNA नहीं होता है! यह थोडी ही हमें हमारी पहचान देता है! यह DNA इतना महत्वपूर्ण इसीलिए होता है क्योंकि! इसमें हमारे development यानी की! हमारी ग्रोथ, रीप्रोडक्शन और कार्य के लिए निर्देश  होते हो! अधिकांश DNA न्यूक्लियस में पाए जाते हैं, जिसे न्यूक्लियर dna कहा जाता है! और DNA का एक स्मॉल पोर्शन माइट्रोकांड्रिया में भी पाया जाता है, जिसे माइटोकांड्रियल DNA कहते हैं।

DNA की फुल फॉर्म deoxyribonucleic acid होती है! और यह जैविक अमले नाइट्रोजन चारों से मिलकर बनता है! इंसानों में पाए जाने वाले dna में लगभग 3 बिलियन बेसिस पाए जाते हैं! और  DNA का लगभग 99% हर इंसान में सेमलर होता है। 

DNA एक लंबी जंजीर जैसा दिखने वाला अणु होता है जो जीव के अनुवांशिक विशेषताओं को एनकोड करता है। वैसे हेरानी की बात यह है कि अगर हमारे शरीर में मौजूद सारे DNA को सुलझाया जाए तो यह इतने लंबे होंगे कि सूरज तक पहुंच कर। 300 * बार  वापस अर्थ पर आ सकेंगे

जिन्हें रिट्री मटेरियल होता है! जो सेल न्यूक्लियस में पाया जाता है और यह जींस DNA के बने होते हैं। DNA एक घुमावदार सीढ़ी नुमा आकृति बनाता है और इसे डबल हेलिक्स कहा जाता है। न्यूक्लियोटाइड्स का डबल स्टैंडर्ड पॉलीमर! DNA होता है। 

और सिंगल न्यूक्लियोटाइड में यह पाए जाते हैं! phosphate  molecules एक शुगर मॉलिक्यूल जिसे डीऑक्सिराइबोस कहा जाता है नाइट्रोजन युक्त सार यानी बेसिस।

DNA 4 bases पाए जाते हैं

  1. Adenine > A
  2. Cytocin > C
  3. Guanin > G
  4. Thiamine > T

इन चारों बेसिस का क्रम ही आनुवंशिक कोड बनाता है जो जीवन के सभी जरूरी कामों को करने के लिए हमें निर्देश देते हैं। इन बेसिस विक्रम को DNA सीक्वेंस कहा जाता है। इन बेसीस में से  मेड इन थाईलैंड के साथ और ग्वार इनसाइट  के साथ बोंड बनाता है।

बोंड के साथ ही बेसिक फास्फेट और एक पैन टू शुगर के साथ भी बंधा होता है। इसीलिए नाइट्रोजन बेस phosphateशुगर से बने DNA को न्यूक्लियोटाइड कहा जाता है। DNA अपनी स्ट्रक्चर की हूबहू कॉपी बना सकता है। यानी DNA अपने जैसा नया DNA बना सकता है और यह प्रक्रिया सेल डिविजन के लिए जरूरी भी होती है।

अक्सर DNA से बना हुआ नया DNA 100%  उसके सम्मान ही होता है! लेकीन कभी कभी यह नया बना DNA पूरी तरह समान नहीं हो पाता है! तो बॉडी में हार्मफुल म्यूटेशंस की पैदा कर सकता है। DNA कोई पेनड्राइव भी कह सकते हैं क्योंकि DNA हमारे शरीर की सारी जानकारी अपने अंदर स्टोर करके रखता है और 1 ग्राम DNA 700 टेराबाइट्स की जानकारी  स्टोर कर सकता है ।

दोस्तो! आप सोचिए अगर दुनिया भर की इंफॉर्मेशन को आप स्टोर  करना चाहे तो! आपको सिर्फ 2 ग्राम DNA की जरूरत पड़ेगी। वैसे DNA क्या होता है और कहां पाया जाता है! यह जाने के बाद अब सवाल आता हे कि DNA की खोज किसने की!

DNA की खोज किसने की है

DNA की सबसे पहले जो  खोज की है वह है  friedrich miescher  1969 में अब जॉब किया, लेकिन बहुत सालों तक इस मॉलिक्यूल की इंपोर्टेंस रिसर्च का ध्यान अपनी तरफ खींच नहीं पाई। लेकिन जब 1953 में james Watson ? Francis crick ? Maurice wilkings  रोजालिन फ्रेंकलिन ने DNA का डबल हेलिक्स स्ट्रक्चर खोज निकाला, तभी यह समझा जाने लगा कि यह DNA बायोलॉजिकल। इंफॉर्मेशन  को कैरी कर सकता है। 

इसके लिए वाटसन क्रिक और वैकेंसी 1962 में मेडिसिन का नोबेल प्राइज भी मिला DNA के मॉडल को व्हाट्सएप मॉडल के नाम से भी जाना जाता है!

यह भी जाने –

5 simple way to live a happy life | सुखी जीवन जीने के नियम

Google map पर अपने घर या दुकान का लोकेशन कैसे डालें? (सिर्फ 10 मिनट मे)

Debit card and Credit card difference in hindi | ATM card kya hai

DNA important works 

DNA! रिप्लिकेशन ट्रांसक्रिप्शन और जेनेटिक! इनफॉरमेशन को ट्रांसफर करने के इंपॉर्टेंट काम करता है! नकल करने की प्रक्रिया है जिसमें DNA की नकल करके अपने जैसा दूसरा DNA बना लेता है। ऐसा होने से शरीर से सोंग्स की संख्या नियंत्रित होता है। स्वास्थ्य के लिए हमारे शरीर में मौजूद रहने का निर्माण करता है! जेनेटिक इनफॉरमेशन को एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में ट्रांसफर करना भी! DNA का बहुत ही इंपॉर्टेंट काम होता है और इसके बारे में भी जानते है

What is DNA test ? 

दोस्तो! DNA  जिसके बारे में आपने काफी सुना है! हर  इंसान की DNA में उसकी हेरिटेज की जानकारी होती है और DNA टेस्ट या जेनेटिक टेस्ट किसी जेनेटिक डिसऑर्डर का पता लगाने जेनेटिक म्यूटेशन का पता लगाने की क्या  जाता है।

बच्चे में मदर और फादर दोनों की जींस होते हैं! और DNA टेस्ट के जरिए बच्चे के पेरेंट्स का भी पता लगाया जा सकता है! DNA टेस्ट की मदद से किसी भी क्रिमिनल को पकड़ा जा सकता है!। डीएनए एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में ट्रांसफर होता है और इस आधार पर DNA टेस्टिंग के जरिए यह पता लगाया जा सकता है कि आपके आने वाली जनरेशन के बालों का रंग आंखों का रंग कैसा होगा और साथ ही अगली पीढ़ियों में कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती है। इसका पता भी लगाया जा सकता है।

DNA टेस्ट की मदद से न्यूबॉर्न बेबीज। डिसऑर्डर का पता लगाया जा सकता है! ताकी समय रहते उसका इलाज किया जा सके! इसके अलावा बच्चे की जन्म से पहले भी आने की प्रेगनेंसी के दौरान की जानेकित डिसऑर्डर का पता लगाया जा सकता है! और आजकल तो कुछ ऐसे नहीं टेस्ट भी हो रहे हैं!  धीरे-धीरे यह भी पता लगाया जा सकता है कि! आपके पूर्वज दुनिया के किस कोने से आई थी!। मतलब ओरिजिन कहां से हुआ था! यार ऐसी बहुत सारी जानकारी और बहुत सारी रिजल्ट इन DNA से जुड़ी हुई आती रहती है और अभी भी इस फिल्ड में काफी सारा काम किया जा रहा है और किया जाएगा क्योंकि बहुत ही जटिल विषय है।

अंत मे

दोस्तो! इसी के साथ DNA kya hai और DNA के बारे में इंपोर्टेंट इनफार्मेशन ले चुके हैं! और moralblog.in यह उम्मीद करता है कि यह इंफॉर्मेशन आपको इंटरेस्टिंग और यूज़फुल जरूर लगी होगी आपके कोई सवाल हो तो हमे कमेंट जरूर करे। 

धन्यवाद ! 

Share us friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!