VPN क्या है और कैसे काम करता है? | VPN के फायदे व नुकसान

Google News Follow

हैलो दोस्तो, क्या आप Online security और Privacy को लेकर परेशान रहते हैं क्या आपको भी लगता है कि आपकी पर्सनल जानकारियां हैकर के हाथों लग जाएगी और क्या आप भी अपनी Email, online shopping,  bill payments को Secure रखना चाहते हैं अगर हां तो ऐसा करना अब Possible है क्योंकि  online privacy को secure करने के लिए वीपीएन available है जी हां लेकिन यह वीपीएन क्या है और कैसे आपकी मदद कर सकता है। यह जानने के लिए आपको यहां दी गई जानकारी को पूरा पढ़ना होगा यह जानकारी आपकी बहुत मदद करेगा और आपको भी वीपीएन के बारे में विस्तार से सारी जानकारी मिल जाएगी तो चलिए शुरू करते हैं और इसके बारे में जानते हैं-

VPN

VPN Full Form

Virtual Private Network (VPN) जिसका मतलब होता है आभासी निजी नेटवर्क। किसी एक Provider के माध्यम से Network का संचार करना। 

VPN क्या है ?

वीपीएन को सबसे पहले 1996 मे Microsoft ने Develop किया था! ताकि Remote employee मतलब कि ऐसे Employee जो उस ऑफिस में बैठकर काम नहीं करते बल्कि उसके बाहर रहकर कहीं से भी काम करते हो! वह Employee कंपनी के इंटरनेट नेटवर्क पर Secure access ले सकें! लेकिन जब ऐसा करने से कंपनी की Protection बढ़ गई तो! बाकी कंपनियां भी  Virtual Private Network का इस्तेमाल करने लग गई। 

Unsecure Wi-Fi network पर web Browsing करना या transaction करने का मतलब है! अपने  private information और  browsing habits को Expose करना वैसे सोचने में ही यह इतना खतरनाक लगता है लेकिन! वीपीएन यानी  Virtual Private Network पब्लिक नेटवर्क इस्तेमाल करते समय आपको Protect network provide कराता है! या आपके इंटरनेट ट्रैफिक को Encrypt करता है और आपकी Online identity को hide करता है! ऐसे में 3rd  पार्टी के लिए आपकी  online activity को track करना और आपका डाटा चुराना मुश्किल हो जाएगा। 

Virtual Private Network आपके PC, Smartphone को Server Computer पर Connect करता है! और आप उस कंप्यूटर के इंटरनेट कनेक्शन का इस्तेमाल करके इंटरनेट पर ब्राउजिंग कर सकते हैं! Virtual Private Network Legal होते हैं और इनका इस्तेमाल पूरी दुनिया में Individual भी करते हैं और कंपनियां भी करती हैं ताकि अपने डाटा को हैकर से Protect किया जा सके इसका इस्तेमाल ऐसे देशों में भी किया जाता है जहां पर  high respected Government होती हैं पब्लिक नेटवर्क पर अपनी ऑनलाइन सिक्योरिटी के लिए Virtual Private Network का इस्तेमाल किया जा सकता है। 

VPN काम कैसे करता है ?

जब आप एक secure वीपीएन पर कनेक्ट होंगे तो आपका इंटरनेट ट्रैफिक Encrypted tunnel से गुजरता है जिसे कोई नहीं देख सकता! यानी ना तो हैकर, ना तो गवर्नमेंट और ना ही आपका इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर! यानी आप के डाटा को Read नहीं किया जा सकता।

 कैसे काम करता है इसे समझने के लिए दो Situation देखते हैं-

  1. Without VPN (VPN के बिना) – जब हम बिना वीपीएन के वेबसाइट का Access लेते हैं! तो उस Internet service provider (ISP) के जरिए site पर कनेक्ट कर पाते हैं! (ISP) Internet service provider हमें एक  unique IP address देता है लेकिन क्योंकि ISP ही हमारा पूरा  traffic को Handle और  Instructions देता है वह उन वेबसाइट का पता लगा सकता है जिन पर हम विजिट करते हैं तो ऐसे में हमारी Privacy पूरी तरह से secure नहीं रहती।
  2. With VPN (VPN के साथ)-  जब हम वीपीएन के साथ इंटरनेट से कनेक्ट होते हैं! तो हमारी Devices पर जो VPN  application होता है उसे वीपीएन client भी कहा जाता है! और वह वीपीएन server से  secure connection Established करता है! हमारा ट्राफिक अभी भी ISP के जरिए पास होता है लेकिन ISP इस ट्राफिक की फाइनल Destination नहीं देख पाता और जिन website पर हम विजिट करते हैं वह हमारा Original IP address नहीं देख पाते है । 

अगर privacy आपके लिए बहुत Important है तो आपको हर बार इंटरनेट से कनेक्ट करते  time Virtual Private Network का इस्तेमाल करना ही चाहिए लेकिन फिर भी कुछ हालात ऐसे होते हैं जिनमें आपको जरूर से Virtual Private Network का इस्तेमाल करना ही चाहिए जैसे कि Streaming के दौरान  travelling के दौरान  public Wi-Fi इस्तेमाल करते समय गेम खेलते समय और ऑनलाइन शॉपिंग के समय। 

VPN Type | वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क के प्रकार 

  1. Remote Access  VPN
  2. Site To Site  VPN

Remote access VPN के जरिए उपयोगकर्ता एक दूसरे नेटवर्क पर  private Encryption tunnel के जरिए कनेक्ट हो पाते हैं इसके जरिए कंपनी के इंटरनेट सर्वर या पब्लिक इंटरनेट से कनेक्ट हुआ जा सकता है।

site to site  VPN को Router To router वीपीएन भी कहा जाता है इस Type के Virtual Private Network का इस्तेमाल ज्यादातर Corporate Environment में किया जाता है! खासकर जब एक Enterprise के कई  different location पर headquarter होते हैं! ऐसे में site to site  वीपीएन ऐसा close Internal network create कर देता है! जहां पर सभी Location एक साथ कनेक्ट हो सके इसे Intranet कहा जाता है।

Virtual Privat Network Advantage and Disadvantage | VPN के फायदे व नुकसान  

Virtual Private Network से होने वाले लाभ को एक साथ देखा जाए तो! इसके इस्तेमाल से आपके Browsing history, IP address, location, streaming location, devices और  web activity hide हो जाती है लेकिन Virtual Private Network के फायदों के साथ इसके कुछ नुकसान भी हैं जैसे कि  compare करें तो slow speed, no cookies protection, Not total privacy इतना Secure होने के बावजूद Virtual Private Network को Complete privacy provider नहीं कहा जा सकता क्योंकि! यह हैकर, गवर्नमेंट, और ISP से डाटा को Hide कर सकता है लेकिन! खुद Virtual Private Network Provider चाहे तो आप की Details देख सकता है! तो ऐसे में एक भरोसेमंद Virtual Private Network  provider से ही सर्विस लेना बेहतर होता है।

एक सही Virtual Private Network Provider का पता आपको इन Points के जरिए लग जाएगा-

  • वीपीएन sufficient speed ऑफर करें। 
  • आपकी Privacy secure रहे।
  • Provider latest protocol का इस्तेमाल करें।
  • उसकी  Reputation अच्छी हो।
  • उसकी  data limit आपकी Requirement से मिलती हो।
  • Server की  location आपको पता हो।
  • Multiple device इस पर  VPN access ले सकते हो।
  • वीपीएन का cost suitable हो।
  • Highest encryption available हो।
  • Best customer support Provide कराया जाए।
  • Free  trial available हो।
  • Ads block करने की Facility हो।

इन्हे भी पढ़े  –

Internet service provider | ISP क्या है और इसका काम क्या है | ISP के 3 प्रकार

mobile ki ram kaise badhaye | Android Mobile की Ram कैसे बढ़ाये 4GB तक

mobile recharge kaise kare 2022 ? Online Mobile Recharge कैसे करें ?

New sim card kaise chalu kare | Jio BSNL VI Airtel

VPN Free 

बहुत से  top provider अपने Virtual Private Network का Free version भी  provide कराते हैं लेकिन Free version के Limitations हो सकती हैं जैसे कि Data limit जबकि कुछ वीपीएन providers Paid version का Free version भी Provide कराते हैं ऐसे में Virtual Private Network लेते समय बजट देखा जाना तो आम बात है लेकिन इतना जरूर ध्यान रखना चाहिए कि वह Virtual Private Network आपको Basic feature तो जरूर से प्रोवाइड कराता हो जो है  privacy. 

Express VPN tunnelbear,  strongvpn  यह कुछ ऐसी साइट है जहां से अपने Windows, PC, mac, Android, iPhone और  iPad के लिए वीपीएन client डाउनलोड किया जा सकता है और Free trial लिए जा सकते हैं। आपको अंदाजे के लिए बता दें Express VPN का 1 महीने का प्लान $12.95 डॉलर का होता है।  

ऐसे सभी Devices जो इंटरनेट से कनेक्ट हो सकती हैं उनमें वीपीएन का इस्तेमाल हो सकता है और ज्यादातर Virtual Private Network Providers multiple platforms पर यह सर्विस दिया करते हैं जैसे-  laptop, tablet, smartphone, voice assistant, smart Appliances और Smart TV पर। इसी के साथ Virtual Private Network से संबंधित सारी जानकारी Complete हो चुकी है।

वीपीएन से संबन्धित पूछे जाने वाले प्रश्न 

वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क क्या है?

वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क एक आभासी निजी नेटवर्क है जब आप एक secure वीपीएन पर कनेक्ट होंगे तो आपका इंटरनेट ट्रैफिक Encrypted tunnel से गुजरता है जिसे कोई नहीं देख सकता! यानी ना तो हैकर, ना तो गवर्नमेंट और ना ही आपका इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर! यानी आप के डाटा को Read नहीं किया जा सकता।

वीपीएन का फुल फार्म क्या होता है ?

Virtual Private Network (वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क)

वीपीएन का मतलब क्या होता है?

VPN (Virtual Private Network) जिसका मतलब होता है आभासी निजी नेटवर्क। किसी एक Provider के माध्यम से Network का संचार करना। 

वीपीएन काम कैसे करता है ?

जब हम वीपीएन के साथ इंटरनेट से कनेक्ट होते हैं! तो हमारी Devices पर जो वीपीएन  application होता है उसे वीपीएन client भी कहा जाता है! और वह वीपीएन server से  secure connection Established करता है! हमारा ट्राफिक अभी भी ISP के जरिए पास होता है लेकिन ISP इस ट्राफिक की फाइनल Destination नहीं देख पाता और जिन website पर हम विजिट करते हैं वह हमारा Original IP address नहीं देख पाते है।

निष्कर्ष 

आप ने अब तक जाना Virtual Private Network (वीपीएन) के बारे मे की यह क्या होता है, Virtual Private Network काम कैसे करता है, यह कितने प्रकार का होता है और साथ ही Virtual Private Network की हमे जरूरत क्यों पड़ती है, इसके फायदे और नुकसान भी। आशा करते है की आप की समझ Virtual Private Network को लेकर बेहतर बन गई होगी इस जानकारी को अपने परिजनो से शेयर करना ना भूले।

धन्यवाद ! 

Share us friends

Leave a Comment