What is RAM | RAM क्या है और कितने प्रकार की होती है ? जानिए RAM की full information

आज के समय में आपको कुछ पता हो या ना हो लेकिन कुछ Basic चीजों के बारे में जानकारी तो होनी ही चाहिए क्योंकि आज का समय है, Technology का समय नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है एक बार फिर से Moralblog.in के एक और आर्टिकल में तो आज हम जानेंगे ऐसे एक शब्द के बारे में जिसका नाम है RAM जी हां What is RAM ? यह RAM क्या है? इस शब्द से Almost सभी Smartphone users परिचित है।

जब आप नया mobile लेने जाते हैं तो आपके मन में यही सवाल रहता है कि आपको कितनी रैम वाला mobile लेना चाहिए जिससे कि आगे चलकर के आपको किसी भी परेशानी का सामना ना करना पड़े।

RAM  की अगर बात की जाए तो Computer हो, Laptop हो, या फिर आपका  mobile इन सभी Devices में यह बहुत ही Important चीज है क्योंकि इसी के कारण ही कोई भी Device बेहतर काम करती है अगर आप भी यह नहीं जानते हैं तो हम आपको बताने वाले हैं आज RAM क्या होती हैं और आपके मोबाइल या कंप्यूटर में कितनी RAM  होनी चाहिए।

What is RAM Meaning

सबसे पहले आपको बताते हैं! RAM की Full form (Random Access Memory) यह Superfast high speed storage होता है!  इसे आप computer की short term memory भी कह सकते हैं!  इसे Computing fundamental elements में से एक माना जाता है।

What is RAM | RAM क्या है?

आइए इसे एक Simple example के जरिए समझने की कोशिश करते हैं! मान लीजिए कि आप किसी ऑफिस में बैठे हैं और आपको काम करने के लिए एक File चाहिए होगी और file किसी दूसरे कमरे में रखी हुई है! तो जब भी आपको काम करना होगा! तो आप दूसरे कमरे में जाएंगे और इस file को ले आएंगे! फिर डेस्क पर रख कर के उस File पर काम करने लग जाएंगे।

एक समय ऐसा आता है जब आपको एक साथ ज्यादा work करने होते हैं! और इसके लिए आपको बहुत सारी Files की जरूरत पड़ेगी  तो इस ज्यादा काम के लिए आपको ज्यादा files रखने के लिए बड़ी डेस्क की भी जरूरत पड़ेगी तो जब आपको कोई सा भी काम करना होगा तो  आप डेस्क से उसकी  file उठाकर काम करने लग जाएंगे जब आपका काम खत्म हो जाएगा तो आप वापस  उन सारी  files को उसी कमरे में  रख देंगे।

तो जो रैम मोबाइल में होती है! वह कुछ इसी तरीके से काम करती है! जो File वाला दूसरा कमरा है उसे आप  internal memory मान सकते हैं! जिसमें आपकी सारी  files और Applications है और जो डेस्क है वह आपकी  RAM हो गई जिस पर आप काम करते हैं। 

तो यहां इसका काम आपके आदेश के अनुसार आपकी Direction के अनुसार किसी app को ला करके उसे Run करना है क्योंकि किसी भी  app को  open होने में कुछ सेकंड का समय लगता है और यह इसलिए होता है क्योंकि RAM  की Speed बहुत  fast होती है।

तो यहां इसका काम आपके Instructions के According किसी भी  application को ला करके उसे  Run करना है! क्योंकि किसी भी  app को Open होने में कुछ सेकंड का समय लगता है यह इसलिए होता है क्योंकि! RAM की Speed बहुत fast होती है। आप इस बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि 1GB RAM को बनाने में  उतना खर्च आता है जितना कि 16GB के  memory Card बनाने में होता है तो  CPU को जो  file चाहिए होती है RAM उन्हें जल्दी से जल्दी भेजने का काम करती है।

जब आप किसी Game को install करते हैं तो RAM में install नहीं बल्कि! वह फोन की internal memory में install होता है! और जब आप उस game पर click करते हैं तो! वह Run करने के लिए Phone की memory से RAM पर आ जाता है! और RAM काम करने लग जाती है इस बीच में CPU और RAM के बीच बहुत तेजी से information का आदान-प्रदान होता है।

जब आपके computer या mobile की रैम कम होती है! और आप कई बड़ी application खोल के Run कर रहे होते हैं! तो इस situation में मोबाइल या कंप्यूटर hang होने लगता है! इसीलिए कहा जाता है कि ज्यादा RAM multitasking के लिए उपयोगी होती है। 

वैसे भी आजकल तो Super multitasking है!  WhatsApp भी देखना है,  Facebook भी चेक करना है, गाने भी सुनने हैं, calculation भी करनी है, chatting भी करनी है मतलब कोई limit नहीं है! यह तो रही multitasking की बात और अब आगे बात करते है रैम का होना कितना जरूरी है! कहने का मतलब यह है कि RAM क्या है यह तो अब आप जान ही गए! अब आप यह भी जानना चाहते होंगे कि कितनी RAM होना जरूरी है।

What is RAM of mobile

आज के समय में देखा जाए तो किसी भी mobile में कम से कम 2GB रैम तो होनी ही चाहिए क्योंकि! आजकल की Application का size धीरे-धीरे करके बढ़ रहा है जैसे  Facebook की बात करें तो! वह जब open होती है तो 200 से 300  MB RAM खर्च हो जाती है।

Facebook ही नहीं बल्कि बाकी के सारे  applications के  size upgrade होने के साथ इनके  size भी बढ़ते जाते हैं! इसीलिए अगर आप चाहते हैं कि मोबाइल में  multitasking कर सके तो!  mobile में कम से कम 2  GB RAM होना तो बहुत जरूरी है। 

जिससे कि mobile के hang होने की problem से आप निजात पा सकते हैं। आप चाहे तो 3GB, 4GB वाले smartphone की तरफ भी ध्यान दे सकते हैं क्योंकि! अभी तो 2GB ही काम दे देगा लेकिन future में आपको 2GB में  problem आने लग जाएगी

वैसे आपको एक और चीज बतानी है कि जितना हो सके उतनी ज्यादा RAM की device आपको खरीदनी चाहिए क्योंकि RAM  ऐसी चीज है जिसे की  बाद में बढ़ाया नहीं जा सकता यानी कि अब memory card लगाकर के Space तो बढ़ा सकते हैं लेकिन RAM को नहीं बढ़ा सकते हालांकि कंप्यूटर में RAM  बढ़ाने का Option होता है लेकिन मोबाइल में यह Option नहीं मिलता है।

कुछ ऐसी applications है जो कि! Run होने के बाद फोन की मेमोरी को रैम में बदल देती है! लेकिन इससे कुछ ज्यादा फायदा नहीं होता बल्कि मोबाइल पहले से और भी ज्यादा slow हो जाता है! अब आप को confidence होगा कि जब भी आप  next time मोबाइल Purchase करेंगे या फिर कोई भी  device purchase करेंगे तो! RAM  के बारे में अच्छे से बात कर सकते हैं! और किसी को भी इस बारे में बता भी सकते हैं।

What is RAM of a computer

आपको कितने RAM की जरूरत होती है और अगर आपके System में RAM कम पड़ जाए तो! उसे कैसे बढ़ाया जा सकता है! RAM का फुल फॉर्म तो आप सभी लोग जान ही गए है  Random Access memory जो कि Superfast high speed storage होता है!  इसे कंप्यूटर की short term memory भी कह सकते हैं!  इसे Computing fundamental elements में से एक माना जाता है।

RAM  superfast के साथ-साथ अस्थाई data storage space होता है! जिसका इस्तेमाल computer present time am इस्तेमाल हो रहे data को Store करने के लिए करता है इसका मतलब यह हुआ कि जो प्रोग्राम लगातार इस्तेमाल होते हैं।

यह उन Common डाटा को स्टोर करने का काम करता है RAM किसी भी कंप्यूटर की Short term memory होती है जबकि एक कंप्यूटर की hard disk SSD इसकी long term memory होती है जहां चीजों को स्टोर किया जाता है।

हर  computing device में RAM होता है! चाहे वह एक  desktop computer हो जिसमें Windows, Mac या  Linux का इस्तेमाल किया जाता हो! या एक  tablet, smartphone या फिर एक special purpose computing device हो जैसे Smart TV! लगभग सभी कंप्यूटरों में लंबी अवधि के उपयोग के लिए  information Store करने के लिए hard disk होता है। 

लेकिन! work करने की प्रक्रिया RAM में  की जाती है! Hard disk drive, HDD, Solid state drive, SSD या Optical drive जैसे अन्य प्रकार के स्टोरेज के मुकाबले RAM में Data पढ़ना और लिखना बहुत तेज होता है।

What is RAM type | RAM के प्रकार 

RAM भी कई प्रकार के होते हैं वैज्ञानिक हमेशा नई नई खोज करते रहते हैं जिससे कंप्यूटर हार्डवेयर के इस्तेमाल में  energy  कंजप्शन तो कम हो लेकिन उसकी speed और Capacity बढे 1990 के दशक के अंत और 2000 के दशक की शुरुआत में यूजर्स के पास  Static RAM (SRAM), Dynamic RAM (DRAM), Synchronous Dynamic RAM (SDRAM), DDR RAM होते थे जिन्हे अपनी पसंद से चुनते थे।

आजकल  जो RAM  ज्यादातर इस्तेमाल किया जाता है वह है DDR RAM इसके कई सारे वर्जन 20 साल में लॉन्च हुए है जैसे कि – DDR2 2003 मे आया जिसकी स्पीड 8.5GB/s (8.5GB पर सेकंड) है। 

DRR3 2007 मे आया जिसकी स्पीड 17GB/s  है। 

DDR4 2014 मे आया जिसकी स्पीड 25.6GB/s  है। 

DDR5 सबसे latest है जो कि 2019 में लांच हुआ इसकी स्पीड 32GB/s है। 

RAM का एक और प्रकार है VRAM जिसे Video Random Access Memory कहा जाता है! जो आपकी Graphics card पर लगा होता है! और इसका इस्तेमाल graphical data जैसे  game load करने के लिए किया जाता है!  video RAM बाकी दूसरी मेमोरी से भी तेज होती है।

इन्हे भी जाने –

What is Android | एंड्राइड क्या है और इसका इतिहास, जाने Android के बारे में full information (5 मिनट में)

Web browser | Web browser क्या है और ये कैसे काम करता है?

What is processor | Processor क्या है और कैसे काम करता है | प्रोसेसर की full information हिन्दी मे

What is Touch Screen | टच स्क्रीन क्या है और कैसे काम करता है | Touch Screen full information हिन्दी में

RAM काम कैसे करता है

RAM आपको allow करता है कि आप एक समय में एक साथ कई सारे  program अच्छी  speed के साथ use कर सकते हैं RAM एक हार्ड डिस्क की तुलना में काफी तेज होता है यह किसी हार्ड डिस्क से 20 से 100 गुना तेज हो सकता है इसकी speed depend करती है सिस्टम की Hardware type और  task पर।

इसकी गति के कारण RAM का उपयोग सूचना को तुरंत process करने के लिए किया जाता है! जब आप किसी specific काम को पूरा करना चाहते हैं तो कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम हार्ड डिस्क से data को RAM में लोड करता है ऐसे  process करने के लिए। 

उदाहरण के लिए मान लीजिए कि! आप एक spreadsheet पर काम करना चाहते हैं जब आप Excel शुरू करते हैं! तो आप कंप्यूटर रैम में एप्लीकेशन लोड करता है! अगर आप पहले से save किसी spreadsheet को  load करते हैं जो आपकी हार्ड डिस्क मे स्टोर है तो जब आप उसे खोलते हैं उसे काम करने के लिए तो  operating system उस जानकारी को रैम में भी  copy करता है फिर आप  Excel के साथ काम कर सकते हैं।

ज्यादातर परिस्थितियों मे कंप्यूटर superfast जवाब देता है क्योंकि! RAM तेज होती है जब आपका spreadsheet का काम पूरा हो जाता है! तो आप Excel में इसे save करते हैं जिसका मतलब है कि! डाटा हार्ड डिस्क या किसी और long term memory में copy हो जाता है।

अगर आप इसे  सहेजना भूल जाते हैं और light चली जाती है या कुछ ऐसा होता है! जिससे  वह सारा काम Unsave ही रह जाए तो! क्योंकि RAM तो तभी तक उसे Save रखता है जब तक फाइल उपर रहती है हालांकि! MS Office में जिस फाइल में आप काम करते हैं और अगर light जाने से या किसी भी कारण से system shutdown हो जाए और  file unsave रह जाए तो! जब दोबारा सिस्टम को on किया जाता है तो वह फाइल खुद-ब-खुद  on desktop पर खुल जाती है।

जब आप एप्लीकेशन को बंद करते हैं तो कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम इसे RAM से निकाल लेता है और desk को साफ कर देता है ताकि RAM Space free हो जाए। आपके अगले काम के लिए जब आप पहली बार अपने कंप्यूटर को चालू करते हैं और किसी एप्लीकेशन को launch करते हैं। 

जैसे की PowerPoint spotify तो लोड होने में थोड़ा समय लगता है लेकिन यदि आप किसी program को बंद करते हैं और फिर उसे पुनः load करते हैं तो software लगभग तुरंत खुल जाता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि दूसरी बार App को Hard disk की बजाय RAM से लोड किया जाता है जो कि हार्ड डिस्क से ज्यादा तेज होता है उदाहरण के लिए अगर आप Windows का उपयोग करते हैं तो इसके प्रमुख कार्य जैसे कि आपकी screen पर इमेज को  display करने की ability RAM में कॉपी की जाती  है क्योंकि OS को उन उपकरणों के लिए सुपरफास्ट Access की आवश्यकता होती है जो आप हर समय उपयोग करते हैं।

What is RAM used for | RAM का उपयोग किस लिए किया जाता है

एक कंप्यूटिंग डिवाइस में जितना ज्यादा रैम होता है वह सिस्टम उतना ही  तेज चलता है! अगर आपका डिवाइस पुराना है तो आपको Hardware को update करना पड़ सकता है हर open application जैसे web browser मे tab रैम की space को use करता है हां लेकिन आपको ये बात ध्यान  रखना चाहिए कि RAM  storage से अलग होता है अगर आप अपना PC बंद करते हैं तो रैम से सारी जानकारी, सारा डाटा स्टोरेज मतलब कि SSD, HDD पर चली जाती है।

आप को कितनी RAM की आवश्यकता है इस बात पर निर्भर करता है कि! आप किस तरह का work करते हैं आप एक ही बार में कितने work करते हैं! हम हमेशा चाहते हैं कि हमारा सिस्टम जल्दी Response करें ज्यादातर परिस्थितियों में आपको अपने सिस्टम में हार्ड डिस्क का space ज्यादा चाहिए होता है! और RAM के लिए बहुत कम space की जरूरत होती है।

अब यह भी जानते है कि! कितने काम के लिए कितने RAM की जरूरत होती है शुरू करते हैं 4GB RAM से! अगर आप केवल web browser करते हैं, ऑफिस के  basic application इस्तेमाल करते हैं, और कभी-कभी अपनी फोटो को edit भी करते हैं तो! आपके लिए 4GB मेमोरी काफी है! 8GB RAM  भारी Multi tasker या लाइट के बर्ड्स को 8GB रैम वाला कंप्यूटर चुनना चाहिए।

16+ GB रैम कुछ काम बहुत ज्यादा RAM स्पेस का  इस्तेमाल करते हैं जैसे कि! सीरियस केविंग, Video editing और  programming इसके अलावा जो  users कभी नहीं चाहते कि! उनका कंप्यूटर  slow चले तो उन्हें 16 प्लस जीबी रैम वाले का Computing device को  खरीदना चाहिए।

What is RAM memory | रैम मेमोरी क्या है?

जब कंप्यूटिंग कार्य कंप्यूटर पर मेमोरी की वर्तमान मात्रा से ज्यादा हो जाता है तो ऑपरेटिंग सिस्टम  ऐसे एप्लीकेशन को  जो कम इस्तेमाल किए जाते हैं उनको हार्ड डिस्क पर भेज देता है जिससे System बहुत slow चलने लगता है फिर जब  आप एप्लीकेशन या डॉक्यूमेंट का इस्तेमाल करते हैं  तो Open होने में बहुत समय लेता है।

इन्हीं दिक्कतो से बचने के लिए या तो आप अपनी RAM का साइज बढ़ा सकते हैं! अपने सिस्टम में दूसरा RAM लगाकर या अक्सर मदरबोर्ड में  extra space होता है RAM के लिये तो उसमें आप एक और RAM फिट कर सकते हैं इसके अलावा अगर आप नियमित रूप से बेकार चीजों को साफ करते हैं तो आपका कंप्यूटर और अधिक तेज और बेहतर हो सकता है।

लेकिन रेम बढ़ाने का काम सिर्फ computer में हो सकता है! अगर आप चाहे कि आपके मोबाइल या किसी और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस का रैम बड़े तो यह संभव नहीं है! इसके अलावा हार्ड डिस्क की कमियों की वजह से भी कंप्यूटर Slow चल सकता है! इसके लिए आपके  सिस्टम का हार्ड डिस्क तेज हो चेक कर ले  हार्ड डिस्क SSD होना चाहिए ना कि HDD क्योंकि SSD  इसके मुकाबले ज्यादा तेज काम करती है।

कुछ  time पहले तक जब  Windows 95 चलता था तब 8MB  से 32MB तक के RAM से काम चल जाता था! जबकि आज के टाइम में जब कंप्यूटर भी और Smart और Update हो गए हैं तब! एक web browser जैसे  Chrome या  Firefox में अगर एक ही टाइम में 10 से 12 Tab खोलते है तो! उसमें 2 GB से ज्यादा RAM लग जाता है। 

RAM का काम क्या होता है?

RAM आपको allow करता है कि आप एक समय में एक साथ कई सारे  program अच्छी  speed के साथ use कर सकते हैं RAM एक हार्ड डिस्क की तुलना में काफी तेज होता है यह किसी हार्ड डिस्क से 20 से 100 गुना तेज हो सकता है।

Ram कौन सी मेमोरी है?

Random Access Memory.

RAM कितने प्रकार के होते है ?

RAM भी कई प्रकार के होते हैं वैज्ञानिक हमेशा नई नई खोज करते रहते हैं जिससे कंप्यूटर हार्डवेयर के इस्तेमाल में  energy  कंजप्शन तो कम हो लेकिन उसकी speed और Capacity बढे।
आजकल  जो RAM  ज्यादातर इस्तेमाल किया जाता है-
DRR3 2007 मे आया जिसकी स्पीड 17GB/s  है। 
DDR4 2014 मे आया जिसकी स्पीड 25.6GB/s  है। 
DDR5 सबसे latest है जो कि 2019 में लांच हुआ इसकी स्पीड 32GB/s है। 
RAM का एक और प्रकार है VRAM जिसे Video Random Access Memory कहा जाता है! जो आपकी Graphics card पर लगा होता है।

Conclusion

तो दोस्तो हमें उम्मीद है कि आपको हमारा यह आर्टिकल What is RAM पसंद आया होगा! हम पूरी कोशिश करते हैं कि आपको एक ही जगह  में पूरी जानकारी दे सके! जब हम एक कंप्यूटर या मोबाइल या कोई भी इलेक्ट्रॉनिक smart device खरीदते है तो हमें RAM के लिए Option मिल जाते हैं जैसे 2GB, 4GB, 16GB इससे भी ज्यादा आप अपने काम के हिसाब से space चुन सकते हैं अब आप कोई भी  device purchase करेंगे तो! RAM  के बारे में अच्छे से बात कर सकते हैं! और किसी को भी इस बारे में बता भी सकते हैं। 

इस जानकारी को और भी लोगो के साथ जरूर share करे। आर्टिकल कैसा लगा कमेंट करें और भी एसी जानकारी पाते रहने के लिए हमे सबस्क्राइब करना न भूलें। 

धन्यवाद!

इन्हे भी जाने –

mobile ki ram kaise badhaye | Android Mobile की Ram कैसे बढ़ाये 4GB तक

What is ROM in hindi | ROM क्या है | ROM काम कैसे करता है और ROM के प्रकार

mobile ki ram kaise badhaye | Android Mobile की Ram कैसे बढ़ाये 4GB तक

sim port kaise kare 2022 में | किसी भी सिम को पोर्ट कैसे करें

Sim का PUK Code कैसे पता करें?

Bina sim card ke call kaise kare । बिना सिम कार्ड के कॉल कैसे करें

Airtel sim ka number kaise nikale | एयरटेल सिम का नंबर कैसे पता करे

Dusre ka sim kaise band kare apne mobile se | दूसरे का सिम कैसे बंद करें

MP Sambal Yojna | Mp संबल योजना 2.0 | Sambal 2.0 portal ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, पात्रता

Share us friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!