What is Touch Screen | टच स्क्रीन क्या है और कैसे काम करता है | Touch Screen full information हिन्दी में

आज हम Mobile की touch screen कार्य के ऊपर आपको जानकारी देने वाले हैं दुनिया में विज्ञान का क्षेत्र बहुत ही तेजी से विकास कर रहा है आजकल कई सारी नई नई Technology आ गई है और उन सभी  technology में से एक बेहतरीन तकनीक touch screen Technology है। आज के समय में जितने भी मोबाइल बनाए जाते हैं उनमें अब Traditional display और keyboard के  बजाएं touch screen Technology का इस्तेमाल किया जाता है इसके अलावा जितने भी प्रकार के gadgets है उन सभी में भी टच स्क्रीन का उपयोग किया जाता है। 

टच स्क्रीन को आप अपने smart watch, phones,computers, laptops, tablets, ATM machine screen इत्यादि में देखते आए हैं और जरूर इनका इस्तेमाल भी किया होगा Touch screen की खास बात यह है कि इन्हें उपयोग करना बहुत ही सरल होता है कोई भी काम करने के लिए बस आपको device की screen में touch करना पड़ता है।

हम इसका इस्तेमाल अपने दैनिक जीवन में करते हैं! लेकिन ऐसे बहुत ही कम लोग हैं! जिन्हें यह पता होता है कि! touch screen Technology काम कैसे करता है! अगर आप भी उन लोगों में से हैं! जिन्हें इस बात का कोई अंदाजा नहीं कि टच स्क्रीन काम कैसे करता है तो! हम आप को यहा अब इसकी पूरी जानकारी देने वाले है आइये शुरू करते है। 

What is Touch Screen | टच स्क्रीन क्या है?

Touch Screen एक electronic visible display होता है! जिसे user अपनी उंगली के स्पर्श के माध्यम से  screen को control कर सकता है अगर सरल शब्दों में कहें तो touch screen वो screen होती है जिसके छूने से वो काम करने लग जाए और  जिसमें किसी काम को करने के लिए बटन को दबाने के बजाय उसकी सतह को छूने मात्र से ही  वह कार्य करें उसे ही टच स्क्रीन कहते हैं।

पहले हमें! किसी भी डिवाइस को कंट्रोल करने के लिए Mouse तथा keyboard या keypad की जरूरत पड़ती थी! लेकिन अब समय के साथ सब बदल गया है! और आज के समय में किसी भी डिवाइस को टच स्क्रीन की सहायता से आसानी से कंट्रोल किया जा सकता है।

Touch Screen

टच स्क्रीन का इस्तेमाल अब इतना आम हो गया है कि! tablet, computer, smartphones और दूसरे मोबाइल devices में अब manufacturer touch screen का ही उपयोग कर रहे हैं! जो आपके smart phones और अन्य device के ऊपर लगी हुई होती है।

इसके सहारे आप अपने मोबाइल में किसी भी चीज को एक touch करके control कर सकते हैं  टच स्क्रीन एक  input device की तरह है जिसमें  user मोबाइल के साथ interact करने के लिए मोबाइल स्क्रीन पर मौजूद pictures और Words को touch करता है जिससे उस स्पर्श वाली जगह पर प्रेशर बनता है और मोबाइल स्क्रीन उस प्रेशर के हिसाब से काम करती है।

टच स्क्रीन के बारे में सबसे पहले अपना विचार E.A. Johnson ने 1960 में दुनिया के सामने रखा! इसके बाद टच स्क्रीन को लेकर अनेक experiment भी किए गए! फिर सन 1970 में पहली बार Frank Beck और Bent Stumpe के द्वारा touch screen Technology को launch किया गया पहले के लोगों का मानना है कि टच स्क्रीन के आविष्कार के बाद उसकी स्क्रीन Capacitive screen टाइप की थी जिसे हम आज हमारे स्मार्टफोन में इस्तेमाल कर रहे हैं। 

इसके बाद टच स्क्रीन तकनीकी में लगातार प्रगति देखी गई! टचस्क्रीन पिछले कई वर्षों से उपयोग हो रही है लेकिन! हाल ही में advanced touch screen Technology का अधिक उपयोग किया जा रहा है! कंपनियां इस तकनीक को अपने अधिक से अधिक product में शामिल कर रही है। 

इन्हे भी जाने –

What is processor | Processor क्या है और कैसे काम करता है | प्रोसेसर की full information हिन्दी मे

What is ROM in hindi | ROM क्या है | ROM काम कैसे करता है और ROM के प्रकार

What is Virtual Memory in hindi | वर्चुअल मेमोरी क्या है?

Internet service provider | ISP क्या है और इसका काम क्या है | ISP के 3 प्रकार

Touch Screen Mobile

touch screen Technology अभी हर जगह इस्तेमाल किया जा रहा है और यह बहुत से प्रकार के होते हैं जैसे- Infrared,  Resistive, Capacitive और Surface wave लेकिन स्मार्टफोन में इस्तेमाल होने वाले दो सबसे आम Touch screen Technology मे Resistive  screen और Capacitive  screen शामिल है मोबाइल डिवाइस मे फिलहाल यह दोनों  screen touch Technology का इस्तेमाल किया जा रहा है। 

बाकी बचे  touch screen Technology computers और  laptops जैसे इलेक्ट्रॉनिक devices में इस्तेमाल किए जाते हैं! मोबाइल में जिन touch screen Technology का इस्तेमाल होता है तो चलिए इनके बारे में थोड़ा सा विस्तार से जान लेते हैं।

Resistive Screen

Resistive Touch Screen इसके नाम से ही स्पष्ट हो जाता है कि! यह आपके Touch को रोकने की कोशिश करता है अगर आप जोर से  screen पर  press करते हैं तो आपको यह फील होगा कि आपके  touch से  screen थोड़ी सी Band हुई है और यही से इसकी प्रक्रिया शुरू  होती है Resistive Screen में  2 layer होते हैं –

  1. Resistive layer
  2. conductive layer

यह दोनों layer के बीच छोटे-छोटे Dots मौजूद होते हैं! जो इन्हें एक-दूसरे से अलग रखते हैं! Resistive Screen की उपरी परत बेहद Flexible होती है जो कि पॉलीथिन से बनी होती है! और निचली परत बेहद कठोर होती है जो कि Glass की बनी होती है जिनको Insulating Dots  के माध्यम से  touch screen controller से जोड़ा जाता है। 

conducting layer में हर वक्त Electric current improve होता रहता है! जब हम Resistive Screen में  touch करते हैं! तो Resistive layer के जिस  area में ज्यादा ज़ोर पड़ता है! वो Area conductive layer के साथ जाकर मिल जाता है।

उस  point पर मौजूद इलेक्ट्रिक करंट में बदलाव आता है जिससे यह पता चलता है कि  touch कहां पर हुआ है उसके बाद ही जानकारी प्रक्रिया शुरू करने के लिए कंट्रोलर को भेजा जाता है तब जाकर display screen touch के अनुसार काम करता है वैसे Resistive touth Screen पुराने समय के फोन में इस्तेमाल किए जाते थे जैसे  Micromax, Samsung, HTC इत्यादि। 

यह टेक्नोलॉजी उस समय की सबसे बेहतरीन टेक्नोलॉजी हुआ करती थी लेकिन यह बहुत धीमा था और इतना Sensitive भी नहीं था आज के समय में Technology ATM machine मे इस्तेमाल किए जाते हैं इसकी खासियत यह है कि बाहरी  temperature से प्रभावित नहीं होती क्योंकि इसके ऊपरी परत पर एक  protective seat लगा हुआ रहता है जो इसे सुरक्षित करता है। 

Capacitive Screen

Capacitive screen  के बारे में Resistive Screen  के विपरीत Capacitive screen बिजली की प्रवाह के लिए आपकी उंगली के दबाव का उपयोग नहीं करते! इसके बजाय ऐसे किसी भी चीज के साथ काम करते हैं जो! Electric charge को  Store करते रहती है जिसमें मानव त्वचा भी शामिल है। 

हमारा शरीर electricity का अच्छा conductor है! अर्थात हमारे शरीर में आसानी से Electricity flow होती है! और हम इलेक्ट्रिक चार्ज भी दे और ले भी सकते हैं! Capacitive touch screen पैनल ऐसे मेटेरियल से Quoted होता है जो कि! Electric Charges को Store करती है! Capacitive touch screen किसी भी व्यक्ति के शरीर के अंदर उत्पन्न होने वाली Electricity को महसूस करती है! ये ऊपर से Glass और अंदर से  conductive material की बनी होती है।

जब भी हम डिवाइस की स्क्रीन पर टच करते हैं! तो हमारी उंगली से एक छोटी सी मात्रा में चार्ज उस पॉइंट पर जनरेट  होता है पैनल में चारों कोने में कंट्रोलर लगे होते हैं जो इलेक्ट्रिक चार्ज में होने वाले परिवर्तनों को माफ कर टच की स्थिति का पता लगाते हैं कि कहां टच किया गया है।

Capacitive touch screen केवल उंगलियों से ही touch करने से काम करता है! अगर हम प्लास्टिक या कपड़े के Gloves पहनकर स्क्रीन को टच करेंगे तो वह काम नहीं करेगा क्योंकि! हमारी उंगली के स्पर्श से इलेक्ट्रिक चार्ज निकलती है जो कि! दस्ताना पहनने से Electric charges screen पर फ्लो नहीं कर पाएंगे।

उंगलियों के अलावा Stylish device जो कि Pen की तरह होती है इसका इस्तेमाल भी कर सकते हैं लेकिन वो stylish भी  conductive material से बना हुआ होना चाहिए तभी यह डिवाइस पर काम करेंगा। 

सभी मोबाइल devices और अन्य gadgets में Capacitive touch screen का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल किया जा रहा है क्योंकि यह Resistive Screen से बेहतर होते हैं। 

Resistive Screen और Capacitive screen के बीच में क्या अंतर होता है

यदि हम Resistive Screen और Capacitive screen के बीच तुलना करें तो Capacitive screen ज्यादा बेहतर तकनीकी मानी जाती है Resistive Screen आपके टच को Resist करते हैं और अपने कार्य करने के लिए स्क्रीन पर थोड़ा Force लगाकर touch करना होता है तभी वो डिवाइस काम करता है। 

जबकि Capacitive screen को कुछ इस प्रकार design किया गया है कि! वह केवल आपके छूने मात्र से ही काम करता है! वह भी बिना pressure डाले Capacitive screen, Resistive Screen की तुलना में काफी तेजी से काम करते हैं इसीलिए अभी के समय में इसका इस्तेमाल Smartphones और tablet में मुख्य रूप से किया जाता है। 

Resistive Screen का इस्तेमाल ATM machines और supermarket में किया जाता है! जहां Online bill pay करने के लिए Electronic signature की सुविधा प्रदान की जाती है।

 

टच स्क्रीन कितने प्रकार के होते हैं?

टच स्क्रीन बहुत से प्रकार के होते हैं जैसे- Infrared,  Resistive, Capacitive और Surface wave.
स्मार्टफोन में इस्तेमाल होने वाले दो सबसे आम Touch screen Technology मे Resistive  screen और Capacitive  screen शामिल है।
बाकी touch screen Technology computers और laptops जैसे इलेक्ट्रॉनिक devices में इस्तेमाल किए जाते हैं।

टच स्क्रीन का आविष्कार किसने किया?

टच स्क्रीन के बारे में सबसे पहले अपना विचार E.A. Johnson ने 1960 में दुनिया के सामने रखा फिर सन 1970 में पहली बार Frank Beck और Bent Stumpe के द्वारा touch screen Technology को launch किया गया।

टच स्क्रीन क्या है?

Touch Screen एक electronic visible display होता है! जिसे user अपनी उंगली के स्पर्श के माध्यम से  screen को control कर सकता है अगर सरल शब्दों में कहें तो touch screen वो screen होती है जिसके छूने से वो काम करने लग जाए।

निष्कर्ष 

दोस्तो मुझे उम्मीद है कि आपको Touch screen क्या है! और कैसे काम करता है इसकी जानकारी आपको मिल गई होगी  टच स्क्रीन एक  advanced technology है जिसकी वजह से स्मार्टफोन के साथ interact करना और भी आसान हो गया है इसलिए इस तकनीकी का इस्तेमाल अब मुख्य रूप से सभी Consumer electronic devices में किया जा रहा है। आप को यह जानकारी कैसी लगी हमे कमेंट कर के जरूर बताए और अपने दोस्तो से साथ share करें एसी ही और जानकारी पाते रहने के लिए हमे सबस्क्राइब करें। 

धन्यवाद !

इन्हे भी जाने –

Voter card aadhar card link | कैसे लिंक करें आधार और वोटर आईडी, जानिए प्रोसेस 2 मिनट मे

Debit card and Credit card difference in hindi | ATM card kya hai

mobile ki ram kaise badhaye | Android Mobile की Ram कैसे बढ़ाये 4GB तक

Internet Of Things क्या है | इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IOT) क्या है?

USB ka full form क्या है ? USB kya hai और कितने प्रकार के होते हैं

mobile recharge kaise kare 2022 ? Online Mobile Recharge कैसे करें ?

Agneepath Yojana 2022: ऑनलाइन आवेदन, पात्रता व अग्निपथ योजना चयन प्रक्रिया

Share us friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!