सर्च इंजन क्या है? इसके प्रकार और यह कैसे काम करता है

Google News Follow

हेलो दोस्तों आज कि इस पोस्ट में सर्च इंजन के बारे में बता रहे हैं जिसमें आप जानेंगे कि Search Engine Kya Hai (सर्च इंजन क्या है), सर्च इंजन क्या होता है, सर्च इंजन के प्रकार, सर्च इंजन का उपयोग और सर्च इंजन के उदाहरण इन सभी के बारे में विस्तार से आसान शब्दों में बताने वाले है, जिससे कि आपको समझने में आसानी हो अगर आप सर्च इंजन के बारे में जानना चाहते हैं तो यहां पर सर्च इंजन से संबंधित जानकारी आपको मिलने वाली है इसलिए हमारे इस पोस्ट search engine kya hai को ध्यानपूर्वक अंत तक जरूर पढ़ें। 

search engine kya hai

Search engine एक प्रकार का सॉफ्टवेयर है जो इंटरनेट के द्वारा चलता है वेब या इंटरनेट के माध्यम से किसी भी प्रकार की जानकारी हो खोजने का साधन है हमें जब भी किसी प्रकार की जानकारी को प्राप्त करना होता है तो उन्हें ब्रेव ब्राउजर या इंटरनेट पर खोजते हैं इंटरनेट में मौजूद लाखों वेबसाइट में से उन जानकारियों को खोज कर सर्च इंजन हमें उपलब्ध कराता है। आइये सबसे पहले हम जानते है search engine kya hai.

सर्च इंजन क्या होता है | Search Engine Kya Hai

search engine kya hai: सर्च इंजन एक प्रकार सॉफ्टवेयर है जिसे इंटरनेट के माध्यम से चलाया जाता है जिसे उपयोगकर्ताओं के लिए इस सर्विस को उपयोग करने के लिए उपलब्ध कराया गया है जो इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के लिए वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) पर किसी भी प्रकार की जानकारी को प्राप्त करने के लिए सहायता करता है। 

Search engine के द्वारा हम किसी भी प्रकार की जानकारी को खोज सकते हैं हम जिस भी प्रकार की जानकारी को सर्च करना चाहते हैं उससे संबंधित सर्च इंजन हमें कई सारे ऑप्शन देता है उनमें से हमें जो भी जानकारी अच्छी लगती है उस पर जाकर उसे पढ़कर जानकारी प्राप्त कर लेते हैं और हमारी खोज खत्म हो जाती है। 

कुछ पापुलर सर्च इंजन के नाम इस प्रकार हैं google, yahoo, bing, MSN इन सर्च इंजन का उपयोग एक कुंजी की तरह करते हैं जिससे हमारे सभी सवालों का जवाब विस्तार से प्राप्त हो सके सर्च इंजन आपके मन में उठे हुए किसी भी प्रकार के सवाल का जवाब तुरंत आसानी से दे देता है चाहे आप दुनिया के किसी भी कोने में बैठ कर क्यों ना सर्च करें। 

सर्च इंजन को हिंदी में खोज इंजन भी कहा जाता है Search engine इंटरनेट पर मौजूद वेबसाइटों को स्कैन और एनालाइज करके उनमें से उपयोगी डाटा को अपने सर्वर पर save करके रख लेता है सर्च इंजन के इस प्रक्रिया को वेबसाइट क्राउलिंग कहा जाता है। 

जब कोई यूजर सर्च इंजन मैं कुछ भी सर्च करता है तो सर्च इंजन के डेटाबेस में पहले से स्कैन करके रखी हुई जानकारी को फिल्टर करके जो यूजर के द्वारा सर्च की गई जानकारी से मैच होता है उस जानकारी को वह यूजर के सामने दिखाता है और यह जानकारी कुछ ही सेकंड ओ के अंदर दे देता है यूज़र के द्वारा सर्च इंजन पर जो भी सर्च किया जाता है उन्हें कीवर्ड कहा जाता है। अब आपने यह जान लिए है कि search engine kya hai, आइये अब हम आगे बढ़ते हुये types of search engine जानते है।

इसे भी पढ़े –

Cloud Computing in Hindi | क्लाउड कम्प्यूटिंग क्या है ?

Hosting kya hai : जाने आप के लिए कौन सी होस्टिंग है बेहतर

ISP क्या है और इसका काम क्या है? | Internet service provider

सर्च इंजन के प्रकार | Types of search engine in Hindi

सर्च इंजन मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं जो इस प्रकार से हैं

  1. Crawler based search engine
  2. Directories based search engine
  3. Hybrid search engine

क्रॉलर सर्च इंजन (Crawler based search engine)

क्रॉलर सर्च इंजन के डेटाबेस मे नई जानकारियों को एकत्रित करके स्टोर करने के लिए क्रॉलर और इंडेक्स करने के लिए स्पाइडर, क्रॉलर, रोबोट और वोट प्रोग्राम का उपयोग करता है यह किसी भी वेबसाइट को सर्च रिजल्ट में बदलने के लिए क्रॉलिंग, इंडेक्सिंग, कैलकुलेटिंग और रिट्रीविंग रिजल्ट इन सभी नियमों का पालन करता है Crawler search engine के उदाहरण गूगल, बिंग, याहू सर्च इंजन है। 

डायरेक्टरी सर्च इंजन (Directories based search engine)

वेब डायरेक्टरी को सब्जेक्ट डायरेक्टरी के रूप में भी जाना जाता है डायरेक्टरी सर्च इंजन को category के आधार पर वेबसाइटों की लिस्ट दिया जाता है और यह वेबसाइट किस विषय से संबंधित है उसका एक छोटा सा description भी दिया जाता है इस प्रकार का सर्च इंजन पूरी तरह से मानव संचालित होता है इसमें वेबसाइट का ऑनर खुद अपनी वेबसाइट को सबमिट कर सकता है Directory search engine के उदाहरण DMOZ,BOTM सर्च इंजन है। 

हाइब्रिड सर्च इंजन (Hybrid search engine in Hindi)

हाइब्रिड सर्च इंजन क्राउलर सर्च इंजन और डायरेक्टरीज सर्च इंजन का मिश्रण होता है इस कैटेगरी में आने वाले सर्च इंजन क्रॉलर सर्च इंजन और डायरेक्ट सर्च इंजन इन दोनों में से वेब पेज को सर्च करके परिणाम को दिखाता है लेकिन वर्तमान समय में हाइब्रिड सर्च इंजन पूरी तरह से क्रॉलर बेस्ड सर्च इंजन पर आधारित हो गया है Hybrid search engine के उदाहरण Yahoo, Google सर्च इंजिन है। 

सर्च इंजन का उपयोग

सर्च इंजन का उपयोग कई प्रकार की जानकारियों को प्राप्त करने के लिए किया जाता है जैसे किसी भी प्रश्न का उत्तर ढूंढने, नई जगह को ढूंढने के लिए, फ्लाइट, ट्रेन, बस की बुकिंग करने के लिए और इनसे जुड़ी हुई कई प्रकार की वेबसाइट को ढूंढने के लिए किया जाता है आज के वर्तमान समय में सर्च इंजन का उपयोग बहुत ही व्यापक हो गया है चाहे वह किसी भी क्षेत्र में क्यों ना हो हर क्षेत्र से जुड़ी हुई जानकारियों को प्राप्त करने के लिए सर्च इंजन का उपयोग किया जाता है। 

आज जो भी हम इंटरनेट पर सर्च करते हैं चाहे गाना, वीडियो, फिल्म, शिक्षा, स्वास्थ्य , समाचार, देश विदेश की जुड़ी हुई खबरें यह सभी सर्च इंजन के द्वारा ही किया जाता है। 

सर्च इंजन कैसे काम करता है | How to work search engine

आज से कुछ वर्षों पहले तक इंटरनेट नहीं था लेकिन जब से इंटरनेट का आविष्कार हुआ है उसके बाद से मनुष्य का जीवन बदल गया है उनकी जीवन से जुड़ी हुई कई समस्याएं इंटरनेट के आने से दूर होने लगी थी जब इंटरनेट का आविष्कार हुआ था तब इसका इस्तेमाल इतना ज्यादा नहीं किया जाता था जितना ज्यादा सर्च इंजन के अविष्कार होने के बाद किया जाता है सर्च इंजन के आविष्कार होने के बाद लोगों के ज्यादा से ज्यादा काम सर्च इंजन के द्वारा ही पूरा किया जाने लगा सर्च इंजन कैसे काम करता है आइए विस्तार से जानते हैं। 

सर्च इंजन मुख्य रूप से तीन प्रक्रियाओं से गुजर कर काम करता है आइए इन तीनों प्रक्रियाओं के बारे में विस्तार से जानते हैं। 

क्रॉलिंग (Crawling) – सर्च इंजन का एक ऐसा स्थान होता है जहां पर सभी वेबसाइटों का डाटा एकत्रित रहता है यूजर द्वारा सर्च किए गए किसी भी प्रश्न से संबंधित वेबसाइट को स्कैन करता है और उसके बारे में पूरा विवरण एकत्रित करके एक जगह पर रखना कॉलिंग का काम होता है इसके साथ ही हमारे सवाल से संबंधित शीर्षक, इमेज, कीवर्ड, लिंक हमारे सामने प्रदर्शित किए गए पेज पर दिखाता है। 

यदि हमारे पास पहले से कोई लिंक है तो उस लिंक तक पहुंचाने में सहायता करता है और यह भी बताता है कि आगे आपको कहां पर जाना चाहिए और कहां पर आपके सवालों का सही जवाब मिल सकता है। 

इंडेक्सिंग (Indexing)-  हमारे द्वारा जो भी प्रश्न सर्च किया जाता है उन प्रश्नों के सभी जवाबों को एकत्रित करके एक डेटाबेस बनाता है जिसमें सभी प्रकार की जानकारियां विस्तार से उपलब्ध रहती है जिस प्रकार से लाइब्रेरी में सभी प्रकार की किताबें अलग-अलग जगहों पर रहती हैं ठीक उसी प्रकार से इंडेक्सिंग भी कॉलिंग करते समय यह काम कर लेता है इंडेक्सिंग के द्वारा हजारों वेबसाइट के डाटा को एक साथ एकत्रित करके हमारे सामने प्रस्तुत करने का काम करता है। 

पुनर्प्राप्ति और रैंकिंग (Searching)-  पुनर्प्राप्ति और रैंकिंग की सहायता से किसी भी चीज को आसानी से सर्च इंजन पर खोज सकते हैं हमारे द्वारा पूछे गए सवालों का सही जवाब वही दे सकता है जिसके पास हमारे सवालों का जवाब होता है और हम उस पर ही विश्वास करते हैं सर्च इंजन पर एक छोटा सा शब्द लिखकर हम अपने पूरे सवाल का जवाब आसानी से कुछ ही सेकंड के अंदर पा सकते हैं। 

सर्च इंजन में कुछ ऐसे कीवर्ड कॉन्टेंट पेज और टाइटल मे मौजूद होता है जिनकी सहायता से हम आसानी से ढूंढ सकते हैं और दूसरा तरीका रैंकिंग होता है जिसकी सहायता से गूगल के किसी भी पेज पर उपलब्ध किसी भी शब्द या वाक्य से संबंधित जुड़े हुए सवालों का जवाब हमें आसानी से मिल जाता है। 

शुरू शुरू में जब इंटरनेट का आविष्कार हुआ था उस समय महत्वपूर्ण जानकारियों को प्राप्त करने के लिए कोई भी उचित माध्यम नहीं था लेकिन सर्च इंजन के आविष्कार होने से पूरे ब्रह्मांड को एक अलग ही रूप प्रदान किया है ब्रह्मांड में मौजूद सभी प्रकार के वस्तुओं के बारे में जानकारी को आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। 

जिसके बारे में पहले लोग कहानियों में सुना करते थे सर्च इंजन लोगों को सूचना प्राप्त करने का एक माध्यम बन गया है और इस सर्च इंजन को बनाने वाले लोगों को बड़े-बड़े इंजीनियर के साथ जुड़ कर काम करने का मौका देता है यह सर्च इंजन एक अच्छी आमदनी प्राप्त करने का माध्यम भी बन गया है।

पूछे जाने वाले प्रश्न 

सर्च इंजन का उदाहरण क्या है?

सर्च इंजन का उदाहरण – Google, Bing, Yahoo.

दुनिया का पहला सर्च इंजन कौन सा है?

दुनिया का पहला सर्च इंजन आर्ची archie है जिसे 10 सितंबर 1990 में बनाया गया था।

भारत का पहला सर्च इंजन कौन सा है?

भारत का पहला सर्च इंजन guruji.com है जो 2006 से 2010 तक बहुत ही पॉपुलर था लेकिन किन्ही कारणों बस इसे 2012 में बंद कर दिया गया।

सर्च इंजन के जनक कौन हैं?

सर्च इंजन के जनक एलन एम्जेट हैं इन्होंने ही पहला सर्च इंजन बनाया था जिसका नाम आर्ची रखा गया था एलन एम्जेट को सर्च इंजन के जनक के रूप में जाना जाता है।

इंडियन सर्च इंजन कौन सा है?

Just Dial – 1996 मे
Rediff – 1996 मे
Guruji – 2006 मे
Epic Search – 2010 मे
Bilsir – 2011 मे
Gisass – 2013-14 मे
123 Khoj – 2014 मे
IBharat.Org – 2014 मे
13Tabs – 2016 मे
Neeva – 2018 मे
Qmamu – 2021 मे

विश्व का सबसे बड़ा सर्च इंजन क्या है?

विश्व का सबसे बड़ा सर्च इंजन गूगल है।

सबसे पावरफुल सर्च इंजन कौन सा है?

सबसे ज्यादा पावरफुल सर्च इंजन गूगल है।

सर्च इंजन क्या है और यह कैसे काम करता है?

search engine kya hai: सर्च इंजन एक प्रकार का कंप्यूटर प्रोग्राम है जो लाखों वेबसाइट में से जरूरी जानकारियों को ढूंढ करके एक सूची के रूप में हमारे सामने प्रस्तुत करता है वह भी बहुत कम समय में यह सर्च इंजन वर्ल्ड वाइड वेब पर आधारित होता है जो उपयोगकर्ताओं को सूचना प्राप्त करने के लिए सक्षम बनाता है। सर्च इंजन मुख्य रूप से 3 प्रक्रियाओं से गुजर कर काम करता है क्रॉल करना इंटेक्स करना और खोज के नतीजे को दिखाना।

निष्कर्ष

इस पोस्ट में search engine के बारे में विस्तार से बताया गया है जिसमें search engine kya hai सर्च इंजन क्या होता है सर्च इंजन कितने प्रकार का होता है सर्च इंजन कैसे काम करता है और सर्च इंजन का उपयोग के बारे में जानकारी दी गई है हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी search engine kya hai अच्छी लगी होगी और आप सर्च इंजन के बारे में अच्छे से जान गए होंगे, पोस्ट के अंत तक हमारे साथ बने रहने के लिए धन्यवाद। 

Share us friends

Leave a Comment