Tulsi ke fayde | तुलसी के उपयोग व औषधीय गुण | तुलसी के 19 बेहतरीन फायदे

भारत के ज्यादातर घरों में तुलसी का पौधा देखने को मिल जाएगा तुलसी के पौधे की पूजा भी की जाती है तुलसी के पत्तियों को दैनिक जीवन में प्रयोग किया जाता है तुलसी के पौधे में औषधि गुण भी पाए जाते हैं आयुर्वेद में Tulsi ke fayde के बारे में विस्तार से उल्लेख किया गया है Tulsi ke fayde, गुण और इसका उपयोग के बारे में जानने के लिए इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

Content of table show
Tulsi ke fayde

 

तुलसी क्या है ?

तुलसी एक औषधि पौधा है जिसमें विटामिन और खनिज भरपूर मात्रा में पाया जाता है यह सभी रोगों को दूर करने और शारीरिक शक्ति बढ़ाने वाला गुण पाया जाता है। तुलसी के पौधे का धार्मिक महत्व होने के कारण इसको हर घर में लगाया जाता है तुलसी को तुलसी माता की उपाधि दी गई है तुलसी की कई प्रजातियां पाई जाती है लेकिन इनमें से श्वेत और काली दो ही मुख्य हैं। 

श्वेता तुलसी को राम तुलसी और काली तुलसी को कृष्ण तुलसी कहा जाता है।  तुलसी के पौधे की ऊंचाई सामान्य रूप से 30 से 60 सेंटीमीटर तक होता है इसके फूल छोटे-छोटे सफेद और बैगनी रंग की होते हैं यह जुलाई से अक्टूबर माह तक इसमें फल और फूल लगते हैं तुलसी को अलग-अलग भाषाओं में अलग अलग नाम से जाना जाता है आइए जानते हैं किन – किन भाषाओं में किस नाम से जाना जाता है।

अन्य भाषाओ मे तुलसी का नाम 

  • तमिल  – तुलशी (Tulashi)
  • तेलगु  -गग्गेर चेट्टु (Gagger chettu)
  • संस्कृत – तुलसी, सुरसा, देवदुन्दुभि, अपेतराक्षसी, सुलभा, बहुमञ्जरी, गौरी, भूतघ्नी
  • हिन्दी – तुलसी, वृन्दा
  • गुजराती – तुलसी (Tulasi)
  • बंगाली – तुलसी (Tulasi)
  • नेपाली – तुलसी (Tulasi)
  • उड़िया – तुलसी (Tulasi)
  • कन्नड – एरेड तुलसी (Ared tulsi)
  • मराठी – तुलस (Tulas)
  • मलयालम – कृष्णतुलसी (Krishnatulasi)
  • अरबी – दोहश (Dohsh)

Tulsi ke fayde एवं उपयोग

Tulsi ke fayde मे तुलसी की पत्तियां औषधीय उपयोग के लिए ज्यादा गुणकारी माना जाता है। इसको तुलसी के पौधे से तोड़कर सीधे चबाकर न खाये बल्कि पानी के साथ निगल लें तुलसी को अगर गलत तरीके से खाया जाये तो इससे समस्या भी हो सकती है तुलसी के पत्ते की तरह इसके बीज के भी कई फायदे होते हैं तुलसी के पत्ते में कफ, वात को दूर करने, पाचन शक्ति और भूख बढ़ाने, रक्त को शुद्ध करने वाला गुण पाया जाता है। 

इनके अलावा तुलसी के पत्ते का उपयोग बुखार, दिल से जुड़ी बीमारी, पेट दर्द, मलेरिया, बैक्टीरियल संक्रमण आदि में किया जाता है औषधीय गुण राम तुलसी की तुलना में कृष्ण तुलसी मे ज्यादा होता है आइए जानते हैं Tulsi ke fayde के बारे में विस्तार से।

तुलसी की पत्तियां दिमाग के लिए फायदेमंद

Tulsi ke fayde – तुलसी की पत्तियों का प्रतिदिन सेवन करने से दिमाग की कार्य क्षमता बढ़ती है और याददाश्त तेज हो जाता है इसके लिए प्रतिदिन तुलसी के चार पांच पतियों को एक गिलास पानी के साथ सीधे निगल ले।

इन्हे भी जाने –

lahsun khane ke fayde | लहसुन खाने के 10 बेहतरीन फायदे

kala chana | काले चने के 11 फायदे, उपयोग और नुकसान

Kabuli Chana: काबुली चना खाने के 12 बेहतरीन फायदे

सिर दर्द मे आराम दिलाता है

Tulsi ke fayde – अधिक ज्यादा काम करने या फिर तनाव के कारण सिर दर्द होना एक आम समस्या है सिर दर्द की समस्या से अगर आप भी परेशान रहते हैं तो तुलसी के तेल की 1या 2 बूंद नाक में डालें इससे पुराने से पुराना सिर दर्द और सिर  से जुड़ी अन्य समस्याओं से भी राहत मिलती है।

साइनसाइटिस या पीनस रोग मे फायदेमंद

Tulsi ke fayde – साइनसाइटिस मरीजों के लिए तुलसी की पत्तियों का रस बहुत फायदेमंद होता है तुलसी की पत्तियों को मसल कर सूंघने से साइनसाइटिस रोग दूर हो जाता है।

सिर के जूँ और लीख से छुटकारा

Tulsi ke fayde – अगर आपके सिर में भी जूं पड़ गए हैं और इनसे परेशान हैं तो बालों में तुलसी का तेल या तुलसी के पौधे से तुलसी की पत्तियां लेकर रस निकालकर बालों में लगाएं इससे जूं और लीखें मर जाती हैं ।

गले से जुड़ी समस्याओं में फायदेमंद

Tulsi ke fayde – मौसम में परिवर्तन होने पर अक्सर सर्दी जुकाम गले में खराश जैसी समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं तुलसी की पत्तियां गले से जुड़ी समस्याओं को दूर करने मैं बहुत लाभदायक होता है। 

tulsi ke fayde गले दर्द मे

इन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए तुलसी के रस को गुनगुने पानी में मिलाकर कुल्ला करने से या फिर पानी में तुलसी का रस हल्दी सेंधा नमक मिलाकर कुल्ला करने से मुंह दांत और गले की समस्याएं दूर हो जाती हैं। 

तुलसी का रस रतौंधी में लाभदायक

Tulsi ke fayde – कई लोगों को यह समस्या होती है कि उनको रात के समय ठीक से दिखाई नहीं देता है इस समस्या को रतौंधी कहा जाता है रतौंधी के लिए तुलसी की पत्तियां बहुत फायदेमंद होती है तुलसी के पत्तीयों का रस निकालकर दो-तीन बूंद आंखों में डालने से रतौंधी रोग दूर हो जाता है।

कान के दर्द और सूजन में लाभदायक

Tulsi ke fayde – तुलसी की पत्तियां कान के दर्द और सूजन के लिए बहुत लाभदायक होता है कान के दर्द से छुटकारा पाने के लिए तुलसी के पत्तों का रस निकाल कर उसे गर्म करके दो-तीन बूंद कान में डालने से कान के दर्द से जल्दी आराम मिल जाता है। 

tulsi ke fayde कान दर्द में

अगर कान के पीछे वाले हिस्से में सूजन है तो तुलसी के पत्ते और अरंडी की कोमल पत्तियों को पीसकर उसमें थोड़ा नमक मिलाकर गुनगुना कर ले और उसका लेप लगा ले इससे कान दर्द से राहत मिल जाएगी कान दर्द में तुलसी के पत्ते खाने से भी आराम मिलता है।

दांत दर्द से आराम

Tulsi ke fayde – तुलसी की पत्तियां दांत दर्द से आराम दिलाने में भी बहुत लाभदायक है। 

tulsi ke fayde दांत दर्द में

दांत दर्द से आराम पाने के लिए काली मिर्च और तुलसी के पत्ते की गोलियां बनाकर दांत के नीचे रखने से दांत के दर्द से आराम मिल जाता है।

खांसी में लाभदायक

Tulsi ke fayde – तुलसी की पत्तियों का शरबत बनाकर आधा से डेढ़ चम्मच बच्चों को और दो से चार चम्मच बड़ों को पिलाने से खांसी कुकुर खांसी गले की खराश से राहत मिलती है और इस शरबत में गर्म पानी मिलाकर पीने से जुकाम और दमा से राहत मिलती है।

सूखी खांसी और दमा से आराम

Tulsi ke fayde – तुलसी की पत्तियां अस्थमा और सूखी खांसी से पीड़ित लोगों के लिए बहुत लाभदायक है इसके लिए तुलसी की मंजरी शॉट साथ प्याज का रस को मिला कर खाने से सूखी खांसी और दमा से आराम मिलता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक

Tulsi ke fayde – तुलसी का प्रतिदिन सेवन करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है जिससे सर्दी जुकाम और अन्य संक्रमण बीमारियों से बचा जा सकता है तुलसी के बीज का चूर्ण और मिश्री को मिलाकर खाने से शारीरिक कमजोरी दूर होती है शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है।

डायरिया और पेट की मरोड़ से आराम

Tulsi ke fayde – तुलसी की पत्तियां डायरिया और पेट की मरोड़ से आराम दिलाने में बहुत लाभदायक होता है गलत खानपान और दूषित पानी पीने से लोग डायरिया की चपेट में आ जाते हैं डायरिया और पेट की मरोड़ से राहत पाने के लिए तुलसी की 10 पत्तियां और 1 ग्राम जीरा दोनों को पीसकर शहद में मिलाकर खाने से राहत मिलती है।

इन्हे भी जाने –

Sehat kaise banaye | सेहत बनाने का 100% असरदार तरीका दवा और घरेलू उपाय

डायबिटीज से राहत दिलाये Paneer phool आज से ही करें सेवन

kamjori ke lakshan | अगर आप भी महसूस कर रहे है कमजोरी, तो हो सकती है आपको यह बीमारी

अपच से आराम दिलाता है तुलसी

Tulsi ke fayde – जिन लोगों की पाचन शक्ति कमजोर है और अपच की समस्या से परेशान रहते हैं वे लोग तुलसी की 2 ग्राम मंजरी को पीसकर काले नमक के साथ दिन में तीन चार बार खाने से अपच या अजीर्ण की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

पीलिया में लाभदायक है तुलसी

Tulsi ke fayde – पीलिया एक ऐसी बीमारी है जिसका सही समय पर इलाज न किया जाए तो यह एक गंभीर बीमारी बन जाती है तुलसी के पत्ते को पीसकर छाछ के साथ मिलाकर पीने से पीलिया रोग दूर हो जाता है या फिर तुलसी के पत्तों का काढ़ा बनाकर पीने से भी पीलिया रोग से छुटकारा पाया जा सकता है।

पथरी दूर करने में फायदेमंद है तुलसी

Tulsi ke fayde – जिन लोगों को पथरी की समस्या है उनके लिए तुलसी का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है। 

tulsi ke fayde पथरी मे

तुलसी की पत्तियों को पीसकर शहद के साथ खाने से पथरी बाहर निकालने में सहायक हो सकता है।

प्रसव के बाद होने वाले दर्द से आराम

Tulsi ke fayde – प्रसव के बाद महिलाओं को बहुत तेज दर्द होता है इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए तुलसी की पत्तियां बहुत लाभदायक होती है तुलसी के पत्ते के रस में पुराना गुड या खांड मैं मिलाकर प्रसव होने के बाद पिलाने से होने वाले दर्द में आराम मिलता है।

Google ka avishkar kisne kiya | गूगल का आविष्कार कब और किसने किया

चोट लगने पर तुलसी का उपयोग

Tulsi ke fayde – तुलसी में सूजन को कम करने का गुण पाया जाता है इस कारण चोट लगने पर तुलसी का उपयोग किया जाता है तुलसी का यह गुण चोंट के घाव को और सूजन को ठीक करने में सहायक होता है।

तुलसी का उपयोग चेहरे पर लाए निखार

Tulsi ke fayde – तुलसी का उपयोग चेहरे पर निखार लाने के लिए भी किया जाता है तुलसी में रोज और रोपण गुण होने के कारण यह त्वचा को ज्यादा तैलीय होने से बचाता है जिससे कील मुहांसों को दूर करने और त्वचा के निशान और घावों को दूर करने में सहायक होता है तुलसी का सेवन करने से रक्त शुद्ध होता है और चेहरे में निखार आता है।

Ketki ka phool kaisa hota hai | जाने कैसे हुआ केतकी का फूल श्रापित

सिर्फ 1 Gulab ka phool आपका जीवन बदल सकता है जानिए कैसे

नोट – अगर आप पहले से ही किसी गहरी बीमारी से ग्रसित है तो तुलसी के उपयोग करने से पहले डाक्टर की सलाह जरूर लें क्योकि तुलसी को अगर गलत तरीके से या पहले से ही किसी गहरी बीमारी से ग्रसित व्यक्ति द्वारा उपयोग किया जाये तो इससे समस्या भी हो सकती है। 



Share us friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!