KYC full form | KYC का अर्थ | बैंकिंग में केवाईसी क्या होता है

हेलो दोस्तों आज इस पोस्ट में KYC full form के बारे में बताने वाला हूं जिसमें आप जानेंगे कि  KYC full form in Hindi, KYC ka full form kya hota ha,i KYC kya hai, केवाईसी का अर्थ क्या होता है, KYC meaning, KYC के फायदे क्या हैं, केवाईसी के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या है अगर आप KYC full form और KYC से संबंधित जानकारी जानना चाहते हैं तो इस पोस्ट को पूरा अंत तक जरूर पढ़ें। 

kyc full form

KYC full form

KYC ka full form –  know your customer होता है जिसका अर्थ होता है “अपने कस्टमर को जानो” इसका तात्पर्य है कि बैंकों, बीमा कंपनियों और अन्य सरकारी या गैर सरकारी संस्थानों द्वारा अपने ग्राहकों के साथ लेनदेन करने से पहले ग्राहकों की पहचान करना और उसके पते को सत्यापित करना है आरबीआई द्वारा सभी बैंकों, वित्तीय संस्थानों और वित्तीय लेनदेन करने के लिए केवाईसी अनिवार्य कर दिया गया है। 

DBT full form in Hindi | डीबीटी का फुल फॉर्म क्या होता है

BPL full form in Hindi | बीपीएल का फुल फॉर्म क्या है

USB ka full form | USB क्या है और कितने प्रकार के होते हैं

SIM full form in hindi : सिम को हिंदी में क्या कहते है जानें

KYC का अर्थ क्या है | what is the meaning of KYC

KYC का मतलब होता है अपने कस्टमर को जानो काला धन को वैध बनाने और धोखाधड़ी से बचने के लिए 2002 में केवाईसी की शुरुआत की गई थी किसी ग्राहक को किसी भी सेवा का उपयोग करने की अनुमति देने से पहले उसकी पहचान और पता से संबंधित डॉक्यूमेंट को प्रमाणित और सत्यापित करना है। 

केवाईसी सत्यापन प्रक्रिया पूरा हो जाने के बाद एक कोड प्रदान करती है जिसे ग्राहक की पहचान कर्ता के रूप में जाना जाता है 2004 में आरबीआई द्वारा सभी बैंकों और वित्तीय संस्थानों को अपने नए और पुराने ग्राहकों का केवाईसी सत्यापन करना अनिवार्य कर दिया है जिससे होने वाली धोखाधड़ी को रोका जा सके।  

बैंकिंग में केवाईसी क्या है | what is KYC in banking

बैंकिंग में केवाईसी ग्राहक की पहचान करने के लिए आवश्यक जरूरी दस्तावेजों को सत्यापित करना है जिससे कि यह सुनिश्चित किया जा सके कि लेन देन प्रमाणिक है किसी भी प्रकार की होने वाली वित्तीय धोखाधड़ी को कम करना है इसीलिए आरबीआई ने सभी बैंकों को यह निर्देश दिया है कि अपने ग्राहकों का केवाईसी सत्यापन करें। 

Samagra Portal Aadhar ekyc 2023 | समग्र आईडी e-kyc कैसे करें

Samagra Portal Aadhar e-KYC Status | e-KYC स्थिति कैसे देखें

पीएम किसान e KYC कैसे करें 2023 | Pm Kisan e kyc मोबाइल से

केवाईसी के फायदे क्या हैं | benefits of KYC

  • केवाईसी से ग्राहक की पहचान निर्धारित होती है
  • अवैध लेन देन से होने वाली हानियां और धोखाधड़ी से लोन देने वाली संस्थाओं की रक्षा करता है
  • केवाईसी से ग्राहक की वित्तीय लेनदेन को समझने में सहायता मिलती है
  • कस्टमर के सभी प्रकार के लेनदेन की गतिविधियों पर नजर रखता है जिससे काले धन को वैध बनाने का खतरा को आंकलित किया जा सके

केवाईसी सत्यापन के प्रकार क्या हैं | different type of KYC verification

KYC सत्यापन मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं

  1. आधार बेस केवाईसी
  2. व्यक्तिगत KYC सत्यापन

आधार केवाईसी- आधार कार्ड का उपयोग करके केवाईसी ऑनलाइन किया जाता है जिसमें आधार ओटीपी केवाईसी और आधार बायोमैट्रिक केवाईसी के माध्यम से किया जाता है इन दोनों मैं से किसी भी प्रकार से कर सकते हैं। 

व्यक्तिगत केवाईसी सत्यापन – इस प्रकार के केवाईसी सत्यापन ऑफलाइन किया जाता है व्यक्तिगत KYC सत्यापन पूरा करने के लिए उससे संबंधित किओस्क पर जाकर करवा सकते हैं या फिर केवाईसी पंजीकरण एजेंसी से संपर्क कर सकते हैं और केवाईसी के लिए अनुरोध कर सकते हैं। 

KYC verification के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट

भारत सरकार द्वारा दिए गए निर्देशानुसार 6 दस्तावेज आधिकारिक रूप से मान्य है जो पहचान सत्यापन के लिए उपयोग किया जा सकता है अगर आपने पहले से किसी संस्था को केवाईसी के लिए दस्तावेज जमा किए हैं तो वह समय-समय पर उसे अपडेट करने के लिए उन दस्तावेजों को पुनः मांग सकता है केवाईसी के लिए निम्न दस्तावेजों की आवश्यकता होती है। 

Identity Proof (पहचान प्रमाणित करने के लिए)

Identity proof आपके पहचान के लिए होता है इसके लिए निम्न डॉक्यूमेंट को दे सकते हैं

  • आधार कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस और वोटर आईडी कार्ड।
  • पैन कार्ड
  • आपकी फोटो के साथ पहचान पत्र जो किसी राज्य सरकार और उनके विभागों द्वारा जारी किया गया हो।
  • अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और साइबेनिक वित्तीय संस्थानों द्वारा जारी किया गया पहचान पत्र।
  • कॉलेज द्वारा जारी किया गया पहचान पत्र जो विश्वविद्यालयों से संबंधित हैं। 

Address Proof (पता प्रमाणित करने के लिए)

पता प्रमाणित करने के लिए निम्न डॉक्यूमेंट को उपयोग में लाया जा सकता है

  • पासवर्ड, मतदान पहचान पत्र, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस 
  • लैंडलाइन टेलिफोन बिल, गैस बिल, बिजली बिल
  • बैंक खाता का विवरण
  • उच्च न्यायालय या सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों द्वारा दिया गया स्वघोषणा पत्र जो उनके पते को प्रमाणित करता हो। 
  • निवास प्रमाण पत्र

निष्कर्ष

इस पोस्ट में KYC full form के बारे में बताया गया है इसके साथ ही केवाईसी का अर्थ क्या है, बैंकिंग में केवाईसी क्या है, केवाईसी के फायदे क्या हैं, केवाईसी करने के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट क्या है, बताया गया है हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई kyc full form जानकारी अच्छी लगी होगी और आप KYC ka full form के बारे में अच्छे से जान गए होंगे इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों उसको शेयर करें और ऐसे ही जानकारियां पाते रहने के लिए सब्सक्राइब करें। 

Share us friends

Leave a Comment