Chameli ka phool | चमेली का फूल के 10 फायदे

Chameli ka phool तो आप सभी लोग जानते ही होंगे चमेली झाड़ी या बेल जाति से संबंधित है इसकी लगभग 200 प्रजातियां पाई जाती है चमेली नाम फारसी शब्द यासमीन से बना है जिसका अर्थ होता है प्रभु की देन चमेली को अंग्रेजी में जैस्मिन (Jasmine) कहा जाता है और इसका कुल ओलिएसिई (Oleaceae) है। इनकी अलग-अलग किस्मों को हम चमेली, गंधराज, बेला, मोगरा, मल्लिका इत्यादि नामों से जानते हैं यह सभी जैस्मिन फूल की प्रजातियां हैं। चमेली सफेद रंग का खुशबूदार फूल होता है chameli ka phool हमारे मन को अपनी खुशबू से खुश कर देता है।

Content of table show

 

Chameli ka phool

 

Chameli ka phool उपयोग कई प्रकार के परफ्यूम (इत्र) बनाने में किया जाता है chameli ka phool सिर्फ खुशबू तक ही सीमित नहीं है बल्कि इसका उपयोग खूबसूरती को बढ़ाने के लिए कई तरीके को अपनाया जाता है।

चमेली के फूल का अर्थ क्या है

चमेली के फूल और पौधे का अर्थ जगह और संस्कृति के आधार पर अलग-अलग मान्यताएं हैं Chameli ka phool और पौधे को प्यार, सुंदरता, या कामुकता के प्रतीक के रूप में मान सकते हैं चमेली का फूल सफेद रंग का और बहुत ही मुलायम होता है इसके फूलों की खुशबू मनमोहक होती है और कामुकता को बढ़ाने में मदद करती है आइए जानते हैं Chameli ka phool हमारे लिए कैसे फायदेमंद हो सकता है।

Chameli ka phool के फायदे

 नींद लाने में मदद करता है

Chameli ka phool का उपयोग डिप्रेशन को दूर करने के लिए किया जाता है जैस्मिन तेल का जब अरोमा थेरेपी में उपयोग किया जाता है तो यह हमारे नर्वस सिस्टम को एक्साइड कर देता है जिससे दिमाग एक्टिव हो जाता है और नींद अच्छी आती है।

Chameli ka phool jasmin

रिलैक्स करने में सहायक

chameli ka phool तंत्रिकाओं को शांत करने में बहुत लाभदायक होता है जिससे हमारा शरीर रिलैक्स महसूस करने लगता है जैस्मिन के तेल में नारियल का तेल मिलाकर शरीर की मालिश करने पर शरीर को बहुत राहत मिलती है इसका उपयोग अरोमा थेरेपी में भी किया जाता है।

इन्हे भी जाने –

सिर्फ 1 Gulab ka phool आपका जीवन बदल सकता है जानिए कैसे

Gudhal ka Phool :  गुड़हल का फूल के फायदे और औषधीय गुण

डायबिटीज से राहत दिलाये Paneer phool आज से ही करें सेवन

खोपड़ी को स्वस्थ रखें

चमेली के फूल में एंटीमाइक्रोबॉयल और एंटीसेप्टिक गुण पाया जाता है जो खोपड़ी के संक्रमण को दूर करने में सहायक होता है जैस्मिन के तेल को बादाम या नारियल के तेल में मिलाकर खोपड़ी में धीरे-धीरे मसाज करें इसके बाद कुछ घंटों में बालों को अच्छी तरह से धो लें इसका अच्छा परिणाम पाने के लिए दो-तीन महीने तक हफ्ते में एक बार इस उपाय को जरूर करें।

mogra ka phool

शरीर की दुर्गंध को दूर करने के लिए

अगर आपके शरीर से दुर्गंध आती है और इससे छुटकारा पाने के लिए घरेलू उपाय को ढूंढ रहे हैं तब आप Chameli ka phool का उपयोग कर सकते हैं जैस्मिन फूलों का स्प्रे आप घर पर ही बना सकते हैं इसके लिए आपको ज्यादा कुछ नहीं करना है बस एक स्प्रे बोतल में पानी भर ले और इस पानी में चमेली का तेल मिलाकर अच्छी तरह से मिला लें बस आपका स्प्रे तैयार हो जाएगा और इसका उपयोग अब आप अपनी बॉडी पर कर सकते हैं इससे शरीर की दुर्गंध दूर हो जाएगी।

बालों को कंडीशनर करें

Chameli ka phool बालों को कंडीशनर करने के लिए भी उपयोग किया जा सकता है इसके लिए चमेली के फूलों को कुछ देर के लिए गर्म पानी में भिगोकर रख दें इसके बाद जब पानी ठंडा हो जाए तब बाल धोने के बाद इस पानी से बाल को धोएं यदि आपके बाल घुंघराले हैं तब आप इसमें चमेली का तेल भी मिला सकते हैं इससे बाल चमकदार सुलझे हुए और मुलायम हो जाता है।

चमकती त्वचा के लिए

त्वचा में निखार लाने के लिए भी जैस्मिन के तेल का उपयोग कर सकते हैं इसका उपयोग करने से त्वचा मुलायम हो जाता है चमेली का तेल रूखी और सेंसिटिव त्वचा मे निखार लाता है इसके तेल को आप फेसवास या लोशन में कुछ बूंदे मिलाकर उपयोग कर सकते हैं चमेली के तेल की कुछ बूंदों को नारियल के साथ मिलाकर भी शरीर की मालिश कर सकते हैं।

bela Chameli ka phool

त्वचा को टाइट करें

चमेली के फूलों में ऐसा गुण पाया जाता है जो आपकी त्वचा को दिनभर moisturize रखने में सहायता करता है लेकिन Chameli ka phool का उपयोग सीधे अपने शरीर पर नहीं कर सकते हैं इसके लिए चमेली के अर्क वाला क्रीम या फिर लोशन का उपयोग कर सकते हैं।

निशान मिटाने के लिए

चमेली के तेल में ऐसा गुण पाया जाता है जो निशानों को मिटाने के लिए लाभदायक हो सकता है यह फोड़े फुंसियों और मुहांसों के कारण होने वाले घाव को ठीक कर देता है इसके लिए चमेली के फूलों का अर्क या इससे बने तेल या क्रीम का उपयोग फोड़े फुंसियों के निशान पर लगाने में कर सकते हैं।

इन्हे भी जाने –

Kamal Gatta Kya Hota Hai | कमलगट्टे की माला के 7 फायदे

Neem ke Fayde | नीम की पत्तियों के 10 अद्भुत और चमत्कारिक फायदे और उपयोग

Tulsi ke fayde | तुलसी के उपयोग व औषधीय गुण | तुलसी के 19 बेहतरीन फायदे

Nariyal Pani ke Fayde in Hindi | नारियल पानी के 12 बेहतरीन फायदे

एंजाइटी के लक्षण कम करने में सहायक

चमेली का फूल एंजायटी के लक्षणों को दूर करने में भी मददगार साबित हो सकता है इसको घर के बाहर या फिर घर या ऑफिस में भी उपयोग कर सकते हैं इसके फूलों की खुशबू मन को शांति प्रदान करने में सहायक होता है।

कान बहने की समस्या में

चमेली में औषधि गुण पाए जाने के कारण इसका उपयोग कान के दर्द या कान बहने की स्थिति में इसका उपयोग औषधि के रूप में किया जा सकता है इसके लिए चमेली के 20 ग्राम के लगभग ताजा पत्तों को तोड़कर 100 ग्राम तिल के तेल में उबाल ले इसके बाद ठंडा होने पर इसे छानकर रख लें और फिर इस तेल को 2 बूंद दिन मे 2 बार कान में डालें इससे कान बहने की समस्या, कान के दर्द या कान की खुजली की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है इसे औषधि के रूप में उपयोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें। 

Google ka avishkar kisne kiya | गूगल का आविष्कार कब और किसने किया

Chameli ka phool के बारे मे पुछे जाने वाले प्रश्न और उत्तर 

प्रश्न 1. मोगरा और चमेली में अंतर क्या है?

मोगरा और चमेली एक ही वंश के फूल है ईनकी प्रजाति मे 200 से भी अधिक प्रकार के फूल शामिल है। देखने मे मोगरा के फूल की पंखुड़िया कई परतो से बनी हुई होती है वही चमेली के फूल मे 5 से 9 पंखुड़िया ही होती है। 

प्रश्न 2. चमेली का जड़ लगता है या तना?

चमेली का जड़ और तना दोनों को ही लगा कर इनके पौधे तैयार किए जा सकते है।

प्रश्न 3. सूखे चमेली फूल और पत्तों का पाउडर को कैसे इस्तेमाल करे।

Chameli ka phool और पत्तों का पाउडर कील, मुहासे, डार्क सर्कल, त्वचा के निखार के लिए काफी फायदेमंद है। इस पावडर को दूध, नीबू, गुलाबजल या जस्मिन के तेल मे मिलाकर इसका पेस्ट बना कर इस्तेमाल किया जाता है।  

प्रश्न 4. चमेली फूल कौन सा है कैसे पहचाने?

चमेली झाड़ी या बेल जाति से संबंधित है इसकी लगभग 200 प्रजातियां पाई जाती है। चमेली के तने पतले और लचीले होते है और चमेली का फूल सफेद रंग का खुशबूदार और गुच्छेदार होते है चमेली के कुछ प्रजातियों के फूलो मे सफ़ेद रंग के साथ फूल से बीच के हिस्से मे पीला रंग भी शामिल होता है।

प्रश्न 5. चमेली के फूल कब आते है?

चमेली के फूल अधिकतर मार्च से जून के महीने में आते हैं और इसकी कुछ प्रजाति के फूल 12 महीने पाये जाते है।

प्रश्न 6. चमेली के फूल के पर्यायवाची बताइए?

चमेली, गंधराज, बेला, मोगरा, मल्लिका, जैस्मिन।

निष्कर्ष 

हमने यहा Chameli ka phool के बारे मे जाना और Chameli ka phool ke फायदे भी जाने है हमने पूरी कोशिश की है की Chameli ka phool के बारे मे जो भी आप के सवाल हो उसके जवाव आप को इस आर्टिकल मे मिल जाए और फिर भी आप के कोई सवाल हो तो या आप को यह आर्टिकल कैसा लगा यह बताने के लिए हमे कमेंट करे साथ ही दूसरों को share जरूर करे और भी ऐसी ही जानकारी आप तक पहुँचती रहे इसके लिए सबस्क्राइब करना न भूलें। 

धन्यवाद!

Share us friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!