Gudhal ka Phool :  गुड़हल का फूल के फायदे और औषधीय गुण

Gudhal ka Phool आप लोगों ने तो देखा ही होगा कई स्थानो मे इसे arhul ka phool के नाम से भी जाना जाता है यह मनुष्य के जीवन में कई प्रकार से लाभ पहुंचाता है व्यक्ति के जीवन में आए दिन कुछ ना कुछ परेशानियां बनी ही रहती है वास्तु शास्त्र में मनुष्य के जीवन को सही दिशा और सरल बनाने के कई उपाय बताए गए हैं जिनमें से एक है Gudhal ka Phool के बारे में जिसको करने से व्यक्ति के जीवन में सुख समृद्धि आती है और ग्रह दोष भी दूर हो जाता है और उसके आसपास सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। 

Content of table show

 

Gudhal ka Phool

 

मनुष्य के जीवन में दोनों तरह का समय आता है कुछ लोगों के जीवन में अच्छा समय कुछ दिन के लिए रहता है और बुरा समय ज्यादा दिनों तक रहता है और कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनके जीवन में बुरा समय कम रहता है और अच्छा समय ज्यादा समय तक रहता है लेकिन मेहनत और कोशिश करने से उन परेशानियों को दूर किया जा सकता है। 

लेकिन कई बार ऐसा होता है कि कई कोशिशों के बाद भी परेशानियां दूर नहीं होती है इन परेशानियों को दूर करने के लिए ज्योतिष और वास्तु शास्त्र का सहारा लिया जा सकता है ज्योतिष और वास्तु शास्त्र में जीवन से जुड़ी कई समस्याओं और बाधाओं को दूर करने का उपाय बताया गया है उनमें से एक है Gudhal ka Phool का उपाय गुड़हल का फूल के कई औषधि गुण भी पाया जाता है जिनका सेवन करने से कई बीमारियों से छुटकारा भी पाया जा सकता है।

Gudhal ka Phool | गुड़हल का फूल

Gudhal ka Phool घंटाकार का होता है इसे घर आंगन, बाग बगीचे और मंदिरों में लगाया जाता है यह कई रंग के होते हैं लाल, सफेद, बैगनी, पीला, नारंगी इत्यादि इसकी केसर बाहर की ओर निकली रहती है गुड़हल का फूल पूजा पाठ करने वा जीवन से जुड़ी कई समस्याओं को दूर करने के लिए उपयोग किया जाता है और इसके औषधि गुण के कारण इसका उपयोग कई प्रकार की बीमारियों को दूर करने के लिए भी उपयोग किया जाता है सफेद और लाल रंग वाला Gudhal ka Phool मुख्य रूप से ज्यादा गुणकारी होता है इसकी मुख्य रूप से दो प्रजातियां होती हैं।

  1. गुड़हल बड़ी (Hibiscus rosa-sinensis Linn)
  2. गुड़हल छोटी (Malvaviscus arboreus Cav)

इन्हे भी जाने –

सिर्फ 1 Gulab ka phool आपका जीवन बदल सकता है जानिए कैसे

Ketki ka phool kaisa hota hai | जाने कैसे हुआ केतकी का फूल श्रापित

Kamal Gatta Kya Hota Hai | कमलगट्टे की माला के 7 फायदे

गुड़हल के अन्य भाषाओं में नाम

गुड़हल का वानस्पतिक नाम हिबिस्कस (hibiscus) रोजा सायनेंसिस है और इसका कुल मालवेसी है गुड़हल के अन्य नाम

भाषा  अन्य भाषाओ मे नाम 
Hindi (हिंदी) जवा, ओड्रहुल, अढ़ौल, गुड़हल, जवाकुसुम, अड़हुल
English (अंग्रेजी ) शू फ्लावर (Shoe Flower), रोज मैलो (Rose mallow), रोज आफ चाइना (Rose of china), गार्डन हिबिस्कस (Garden hibiscus), चाइना रोज (China rose)
Sanskrit (संस्कृत) औड्रफूल, जपा, अरुण, प्रतिका, अर्कप्रिया, हरिवल्लभ, त्रिसन्ध्या
Oriya (उड़िया) मोनदरो (Mondaro), ओडोफूलो (Odophulo)
Kannada (कन्नड़) दसनिगाए (Dasnigae), दसवला (Dasavala)
Arabic (अराबिक) अंघारे हिन्दी (Angharae Hindi)
Marathi (मराठी) जसवंद (Jasavanda), जासवन्दी (Jassvandi)
Bengali (बंगाली) ओरु (Oru), जुबा (Joba)
Telugu (तेलुगू) दासनी (Dasani), दासनमु (Dasanamu)
Malayalam (मलयालम) चेम्पारट्टी (Chemparatti), शेम्पारट्टी (Shemparatti)
Nepali (नेपाली) जपा कुसुम (Japa kusum), गुड़हल (Gudhal)
Tamil (तमिल) सेम्बारुट्टी (Sembarattai), सेवारट्टी (Sevarattai)
Gujarati (गुजराती) जासुद (Jasud), जासूवा (Jasuva)
Persian (परसियन ) अंगारेहिन्दी (AngaraeHindi)

गुड़हल के फायदे 

Gudhal ka Phool ke fayde

बालों को बढ़ाने के लिए

Gudhal के पत्तों को पीसकर लुगदी बनाकर बालों में लगा ले और दो-तीन घंटे के बाद अच्छी तरह से धोकर साफ कर ले इस प्रक्रिया को नियमित रूप से करने से बालों को पोषण मिलता है और सिर्फ ठंडा रहता है।

गुड़हल के फूलों के रस में जैतून का तेल मिलाकर पका लें इसके बाद 1 सीसी में भरकर रख लें और नियमित रूप से बालों में लगाए इससे बाल चमकीले और लंबे होते हैं।

रूसी की समस्या में फायदा

रूसी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए गुड़हल के फूल के रस में बराबर मात्रा मे तिल का तेल मिलाकर उबालें जब सिर्फ तेल बचे तब तक और ठंडा होने पर 1 सीसी में भरकर रख लें इसे सिर मे अच्छी तरह लगाने से डैंड्रफ की समस्या दूर हो जाती है।

गंजेपन को दूर करने में

गाय के मूत्र में गुड़हल के फूल को अच्छी तरह से पीसकर सिर मैं लगाने से गंजापन दूर हो जाता है और बाल बढ़ने लगते हैं।

याददाश्त बढ़ाने के लिए

gudhal ke phool और पत्ते को बराबर मात्रा में लेकर सुखा कर पाउडर बना लें और एक चम्मच रोज सुबह शाम एक कप दूध में मिलाकर पीने से याददाश्त स्मरण शक्ति बढ़ती है।

एनीमिया खून की कमी रोग में लाभदायक

  • gudhal ke phool के चूर्ण को दूध के साथ सुबह शाम पीने से खून की कमी को दूर किया जा सकता है और इससे शरीर में ताकत बढ़ेगी।
  • गुड़हल के जड़ और फूलों का काढ़ा बनाकर सुबह के समय पीने से गर्भ में पल रहे बच्चे का शरीर स्वस्थ रहता है।

ल्यूकोरिया के इलाज में

  • गुड़हल के 10 12 फूलों की कलियों को दूध में पीसकर स्त्री को पिलाने से ल्यूकोरिया रोग ठीक हो जाता है।
  • गुड़हल के फूलों की चार पांच कलियों को घी में तलकर सुबह 7 दिन तक मिश्री के साथ खाने से भी ल्यूकोरिया में लाभ पहुंचाता है।

सेक्सुअल स्टैमिना बढ़ाने में

gudhal ke phool को छाया में सुखा सुखा लें और इसके पत्तों के चूर्ण बनाकर बराबर मात्रा में खांड मिलाकर 40 दिनों तक सेवन करने से सेक्सुअल स्टैमिना बढ़ जाता है।

मुंह के छाले मे गुड़हल के फायदे

गुड़हल के जड़ को अच्छी तरह से साफ करके छोटे-छोटे टुकड़ों में काट कर रख ले और दिन में तीन चार बार एक एक टुकड़े को चबाकर ठोक दे इससे दो-तीन दिन के अंदर ही मुंह का छाला ठीक हो जाएगा।

पेट दर्द में आराम

पेट दर्द से आराम पाने के लिए गुड़हल के पत्तों का रस निकाल कर 5 से 10 बूंदों का सेवन करने से पेट के दर्द से आराम मिल जाता है।

बुखार को दूर करने में

  • गुड़हल के जड़ और पत्ते का काढ़ा बनाकर पीने से बुखार उतर जाता है।
  • गुड़हल के फूल का पेस्ट बनाकर उसमें शक्कर मिलाकर खाने से बुखार उतर जाता है।

खांसी और जुकाम में गुड़हल का फायदा

  • खांसी और जुकाम के लिए गुड़हल बहुत लाभदायक होता है इसके लिए गुड़हल की जड़ का रस निकालकर दिन में तीन से चार बार सेवन करने से खांसी और जुकाम ठीक हो जाता है।
  • गुड़हल के फूलों का काढ़ा बनाकर पीने से कफ विकार दूर हो जाता है।

दस्त में लाभदायक

दस्त को रोकने के लिए भी Gudhal बहुत फायदेमंद होता है इसके लिए गुड़हल के पत्ते का रस निकाल कर 5 से 10 बूंदों को पीने से दस्त रुक जाता है।

बवासीर के इलाज में गुड़हल का उपयोग

बवासीर से राहत दिलाने में Gudhal बहुत फायदेमंद होता है गुड़हल की कलियों को घी में तलकर मिश्री और नागकेसर मिलाकर सुबह शाम इसका सेवन करने से पेचिश और बवासीर में राहत दिलाता है।

इन्हे भी जाने –

Nariyal Pani ke Fayde in Hindi | नारियल पानी के 12 बेहतरीन फायदे

Neem ke Fayde | नीम की पत्तियों के 10 अद्भुत और चमत्कारिक फायदे और उपयोग

डायबिटीज से राहत दिलाये Paneer phool आज से ही करें सेवन

परेशानियों को दूर करने का उपाय

सूर्य को मजबूत करने का उपाय

यदि आपकी कुंडली में सूर्य कमजोर है तो घर के पूर्व दिशा में लाल गुड़हल का पेड़ लगाने से लाभदायक हो सकता है इससे सूर्य मजबूत होने लगता है और गुड़हल का पेड़ घर की नकारात्मक ऊर्जा को दूर करके सकारात्मक ऊर्जा को बनाए रखता है।

मंगल दोष का उपाय

मंगल ग्रह का रंग लाल होता है जिन लोगों के कुंडली में मंगल दोष होता है उन लोगों के साथ दुर्घटना होने की संभावना बढ़ जाती है उनका विवाह बहुत देर से होता है और विवाह के पश्चात दोनों के बीच में मनमुटाव बना रहता है इस मंगल ग्रह के दोष को दूर करने के लिए व्यक्ति को अपने घर पर लाल गुड़हल का पौधा अवश्य लगाना चाहिए।

शत्रुता कम करने के लिए

यदि किसी आपकी दुश्मनी हो जाती है तो इसके प्रभाव को दूर करने के लिए आप उस व्यक्ति को लाल Gudhal ka Phool उपहार में दे सकते हैं यह करने से इसका असर देखने को बहुत जल्द आपको मिलेगा। 

आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए

यदि आपके जीवन में तंगी बनी रहती है और इसे दूर करना चाहते हैं तो लाल Gudhal ka Phool मंगलवार के दिन हनुमान जी को और शुक्रवार के दिन लक्ष्मी जी को चढ़ाएं ज्योतिष के अनुसार यदि आपका सामान या कीमती वस्तु चोरी हो जाती है या खो जाती है तब भी आप इस उपाय को कर सकते हैं। 

ऊर्जा प्राप्त करने के लिए

शास्त्रों के अनुसार सूर्य की उपासना Gudhal ka Phool के बिना अधूरी मानी जाती है सूर्य की तरह ऊर्जा प्राप्त करने के लिए प्रतिदिन उनकी पूजा करें और जल अर्पित करते समय उसमें लाल गुड़हल का फूल जरूर डालें। 

गुड़हल के नुकसान

Gudhal ka Phool बहुत ज्यादा सेवन करने से यह फायदे की जगह नुकसान भी पहुंचा सकता है।

  • Gudhal का अत्यधिक ज्यादा उपयोग करने से आंखों में कीड़े होने की संभावना हो जाती है।
  • Gudhal का सेवन करना ठंडे शरीर वाले लोगों के लिए यह नुकसान दायक हो सकता है।

Mobile ka avishkar kisne kiya | मोबाइल का आविष्कार किसने और कब किया था

गुड़हल के बारे मे पुछे जाने वाले प्रश्न और उत्तर 

प्रश्न 1. क्या हम गुड़हल का फूल खा सकते हैं?

हाँ! हम गुड़हल का फूल खा सकते हैं इसमे कई औषधीय गुण पाये जाते है जिसके सेवन से कई बीमारियो का इलाज किया सकता है।

प्रश्न 2. गुड़हल के फूल का सेवन कैसे करें?

गुड़हल के फूल का सेवन कई तरीको से किया जाता है जिसकी जानकारी इसी आर्टिकल ऊपर की और से विस्तार से दी गई है।

प्रश्न 3. gudhal में कोन कोन से विटामिन पाया जाता है?

gudhal में विटामिन सी भरपूर्ण मात्रा मे पाई जाती है।

प्रश्न 4. hibiscus ke bare mein jankari in hindi?

hibiscus घंटाकार का होता है इसे घर आंगन, बाग बगीचे और मंदिरों में लगाया जाता है यह कई रंग के होते हैं लाल, सफेद, बैगनी, पीला, नारंगी इत्यादि इसकी केसर बाहर की ओर निकली रहती है गुड़हल का फूल पूजा पाठ करने वा जीवन से जुड़ी कई समस्याओं को दूर करने के लिए उपयोग किया जाता है और इसके औषधि गुण के कारण इसका उपयोग कई प्रकार की बीमारियों को दूर करने के लिए भी उपयोग किया जाता है सफेद और लाल रंग वाला Gudhal ka Phool मुख्य रूप से ज्यादा गुणकारी होता है।

प्रश्न 5. गुड़हल के फूल के फायदे पथरी में

गुड़हल के फूल का चूर्ण पित्त पथरी के लिए फायदेमंद है गुड़हल के फूल से बने चूर्ण का इस्तेमाल कर पित्त पथरी से निजात पाया जा सकता है।

प्रश्न 6. gudhal ko khane se useful hota h?

हाँ ! गुड़हल को खाना बहुत फायदेमंद है इसमे कई औषधीय गुण मौजूद है।

प्रश्न 7. गुड़हल को अंग्रेजी में क्या कहते हैं?

गुड़हल को अंग्रेजी में hibiscus कहते है।

प्रश्न 8. बाल बढ़ाने के लिए कौन सा फूल सबसे अच्छा है?

बाल बढ़ाने के लिए गुड़हल का फूल सबसे अच्छा है gudhal से बालों को पोषण मिलता है।

Share us friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!