Hernia kya hota hai | हर्निया क्या है? लक्षण, कारण और प्रकार

इस पोस्ट में Hernia के बारे में जानेंगे Hernia kya hota hai, Hernia kya hai, हर्निया कितने प्रकार के होते हैं, हर्निया के लक्षण क्या होते हैं समय के परिवर्तन के साथ साथ इंसानों के स्वास्थ्य में भी परिवर्तन होते जा रहे हैं कई प्रकार की बीमारियां इंसानों को घेरे हुए रहती हैं उनमें से एक है हर्निया यह एक आम समस्या बन गई है लेकिन इसके बारे में कई लोग नहीं जानते हैं कई बार आपने अक्सर सुना होगा कि उसे हर्निया हो गया है या उसने हर्निया का ऑपरेशन करवाया है Hernia एक ऐसी बीमारी बन गई है जो बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक को अपना शिकार बना लेती है। 

Content of table show

 

Hernia kya hota hai

 

जब इंसान के पेट की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं तब Hernia की समस्या उत्पन्न हो जाती है हर्निया के बारे में और अधिक जानने के लिए Hernia kya hota hai  के इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें और हमारे साथ बने रहें।

Hernia kya hota hai

Hernia में मनुष्य के पेट के अंदर की आंते या अन्य कोई हिस्सा शरीर की मांसपेशियों के बाहर किसी छेंद के माध्यम से निकलने लगती हैं उसे हर्निया कहते हैं और जहां पर यह निकलती हैं वहां पर उभरा हुआ दिखाई देता है और लेट जाने पर वह दिखाई नहीं देता है खड़े होने पर, हंसने में, खांसने पर या अन्य कोई कार्य करने में जब शरीर में तनाव पैदा होता है तब इसके कारण तकलीफ होने लगती है। 

यह ज्यादातर पेट में होता है लेकिन यह जांघ के ऊपरी हिस्से में या पेट और जांघ के बीच में भी हो जाता है शुरुआती दिनो मे Hernia कोई ज्यादा गंभीर समस्या नहीं है इसका इलाज संभव है इसमें इंसान को सामान्य तकलीफ से लेकर बहुत ज्यादा दर्द तक भी हो सकता है इसका सही समय पर इलाज ना किया जाए तो इसके कारण कई अन्य समस्याएं पैदा हो सकती हैं इसका उपचार सिर्फ ऑपरेशन के द्वारा आसानी से किया जा सकता है। 

हर्निया के कारण

हर्निया मांसपेशियों की कमजोरी और तनाव के कारण होता है इसके कारण के आधार पर यह लंबे समय तक के लिए भी हो सकता है सामान्य स्थिति में मांसपेशियों के कमजोर होने पर Hernia के कारण इस प्रकार से हैं-

  • आयु
  • पुरानी खांसी
  • किसी चोट या सर्जरी के कारण
  • गर्भ में पेट की दीवार सही तरह से बंद ना होना

इनके अलावा कुछ ऐसे भी कारण हैं जो शरीर पर किसी प्रकार के दबाव पढ़ने के कारण Hernia हो जाता है और यह अक्सर तब होता है जब मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं ऐसी स्थिति में होने वाले हर्निया इस प्रकार से है-

  • गर्भवती होने पर ऐसी स्थिति में पेट पर दबाव पड़ता है
  • किसी भारी चीज को उठाने पर
  • शरीर का वजन अचानक बढ़ जाने पर
  • किसी भी जगह सर्जरी होने पर
  • ज्यादा समय तक खांसी या छीकने के कारण
  • पेशाब करते समय ज्यादा जोर लगाना
  • धूम्रपान करने के कारण
  • शारीरिक थकावट के कारण
  • प्रोटेस्ट के बढ़ जाने के कारण
  • पेट में तरल पदार्थ निकलने के कारण

इन्हे भि जाने –

Pet Saaf Karne ke Upay | पेट साफ करने के 10 आसान घरेलू उपाय

Sehat kaise banaye | सेहत बनाने का 100% असरदार तरीका दवा और घरेलू उपाय

kamjori ke lakshan | अगर आप भी महसूस कर रहे है कमजोरी, तो हो सकती है आपको यह बीमारी

Stamina kaise badhaye | स्टेमिना बढ़ाने के 100 % असरदार उपाय और तरीके

हर्निया के प्रकार

हर्निया कई प्रकार के होते हैं और अलग-अलग मनुष्यों में अलग-अलग प्रकार के हो सकते हैं यह स्त्री और पुरुष दोनों में अलग-अलग प्रकार के होते हैं हर्निया मुख्य रूप से 5 प्रकार के होते हैं जो इस प्रकार से हैं

  1. हाइटल हर्निया hiatal hernia
  2. गर्भनाल हर्निया umbilical hernia
  3. वंक्षण हर्निया inguinal hernia
  4. उदर हर्निया ventral hernia
  5. जघनास्थिक हर्निया

हाइटल हर्निया

यह हर्निया 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को ज्यादा होती है इस प्रकार का हर्निया तब होता है जब पेट का कोई भाग डायाफ्राम के माध्यम से सीना, गुहा में फैलता है डायाफ्राम मांसपेशियों की 1 सीट होती है जो फेफड़ों मे हवा को खींचकर सांस लेने में सहायता करती है यह पेट के अंगों को सीने के अंगों से अलग करने का काम करता है।

गर्भनाल हर्निया

इस प्रकार का हर्निया बच्चों और नवजात शिशु को ज्यादा होता है और यह तब होता है जब आंते नाभि के पास पेट की दीवार से निकल जाती है इस प्रकार के हर्निया को आप अपने बच्चे के पेट पर या उसके आसपास देख सकते हैं वह भी तब जब वह रो रहा हो यह एक ऐसा मात्र हर्निया है जो अपने आप ही ठीक हो जाता है क्योंकि बच्चे के बढ़ने के साथ-साथ उसके पेट की मांसपेशियां मजबूत हो जाती हैं और यह समस्या बच्चे के एक 2 साल होने तक बनी रहती है इसके बाद वह ठीक हो जाता है।

अगर यह बच्चे के 5 साल उम्र तक ठीक नहीं होता है तब इसे सर्जरी के द्वारा ठीक किया जा सकता है गर्भनाल हर्निया वयस्कों को भी हो सकता है मोटापा, पेट में तरल पदार्थ, गर्भावस्था जैसी स्थितियों के कारण जब पेट पर दबाव पड़ता है तब इन्हीं स्थितियों के कारण हो सकता है।

उदर हर्निया

उदर हर्निया मे पेट के अंदर के कोई भी अंग बढ़कर के पेट की मांसपेशियों में एक छेंद के माध्यम से बाहर की ओर उभर आता है जब लेटते हैं तब उदर हर्निया को देखा जा सकता है क्योंकि इस समय हर्निया का आकार कम हो जाता है।

वंक्षण हर्निया

यह एक सामान्य हर्निया है सबसे ज्यादा मरीज लगभग 70% इसी हर्निया के शिकार होते हैं इसमें आंत पेट के कमजोर वाली जगह से या पेट के निचले भाग से बाहर की ओर निकलने लगता है तो इसे वंक्षण हर्निया कहते हैं यह ज्यादातर पुरुषों में देखने को मिलता है। 

जघनास्थिक हर्निया

यह असामान्य प्रकार की हर्निया होती है जो ज्यादातर महिलाओं को हो जाता है यह बहुत कम लोगों में देखने को मिलता है यह जांघों या ग्रोइंग के अंदर ऊपरी भाग में दिखाई पड़ता है और लेट जाने पर अंदर की ओर वापस चला जाता है इस कारण से इसे जगना स्थित हर्निया कहते हैं। 

हर्निया के लक्षण

हर्निया बिना दर्द के पेट के हिस्से में एक उभार या गांठ जैसा दिखाई पड़ता है यह कोई गंभीर समस्या नहीं है लेकिन कभी-कभी असुविधा और दर्द का कारण बन सकता है जो खड़े होने पर, भारी चीज उठाने पर, पेट में तनाव पड़ने पर यह लक्षण दर्द का रूप ले लेती है हर्निया के कुछ मामले ऐसे होते हैं जिनमें तुरंत डॉक्टर से इलाज करवाना चाहिए इसमे निम्न लक्षण देखने को मिलते हैं। 

  • दर्द 
  • जी मचलना
  •  उल्टी 
  • उभरे हुए भाग को वापस पेट में ना धकेला जा सके

इन्हे भि जाने-

kala namak ke fayde | काला नमक खाने के 13 फायदे

डायबिटीज से राहत दिलाये Paneer phool आज से ही करें सेवन

Kamal Gatta Kya Hota Hai | कमलगट्टे की माला के 7 फायदे

mp sambal yojna

पुछे जाने वाले प्रश्न 

प्रश्न 1. हर्निया से बुखार होता है क्या?

हर्निया मे दर्द, जी मचलना,  उल्टी और अधिक दर्द से बुखार होने की संभाना भी बढ जाती है। 

प्रश्न 2. हर्निया का ऑपरेशन हुआ एक महीने से ज्यादा हो गया है फिर भी वहां पर चिलकन बानी है तो क्या करें?

हर्निया का ऑपरेशन के बाद भी तकलीफ बनी हुई है तो डॉक्टर को जल्द ही दिखाये और उनके बताए अनुसार ही उपचार करें।

प्रश्न 3. क्या प्राकृतिक चिकित्सा द्वारा हर्निया का इलाज संभव है?

अगर हर्निया किसी बच्चे को हुआ है जो 6 वर्ष की कम आयु का है तो संभव है की वह अपने आप ही ठीक हो आयेगा लेकिन किसी वयस्क व्यक्ति को हर्निया है तो इसके लिए ऑपरेशन ही एक मात्र इलाज है।

प्रश्न 4. क्या ayushman कार्ड से हर्निया का ऑपरेशन होता है कि नहीं?

आप जिस अस्पताल मे है और वह आयुष्मान प्रमाणित अस्पताल है तो वहाँ हर्निया का ऑपरेशन हो सकता है।

प्रश्न 5. क्या 6 साल के बच्चे को हर्निया हो सकता है?

हाँ ! हर्निया किसी भी उम्र मे हो सकता है एक नवजात शिशु को भी हर्निया हो सकता है।

प्रश्न 6. क्या हाइटस हर्निया जानलेवा है इसका उपचार क्या है?

यह हर्निया 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को ज्यादा होती है इस प्रकार का हर्निया तब होता है जब पेट का कोई भाग डायाफ्राम के माध्यम से सीना, गुहा में फैलता है ऐसे मे डॉक्टर को दिखा लेना चाहिए और इसका इलाज जल्द करवा लेना चाहिए।

प्रश्न 7. हर्निया का इलाज गवर्नमेंट हॉस्पिटल में संभव है क्या?

हाँ ! अगर वह गवर्नमेंट हॉस्पिटल ऑपरेशन की फेसेलिटी रखता है और वहाँ हर्निया का इलाज करने वाले डॉक्टर भी मौजूद है तो उस गवर्नमेंट हॉस्पिटल में हर्निया का इलाज संभव है।

प्रश्न 8. हर्निया की बीमारी क्या होती है?

हर्निया में मनुष्य के पेट के अंदर की आंते या अन्य कोई हिस्सा शरीर की मांसपेशियों के बाहर किसी छेंद के माध्यम से निकलने लगती हैं उसे हर्निया कहते हैं और जहां पर यह निकलती हैं वहां पर उभरा हुआ दिखाई देता है।

प्रश्न 9. हर्निया और अपेंडिक्स में क्या अंतर है?

हर्निया मे इंसान को सामान्य तकलीफ से लेकर बहुत ज्यादा दर्द तक भी हो सकता है इसका सही समय पर इलाज ना किया जाए तो इसके कारण कई अन्य समस्याएं पैदा हो सकती हैं। हर्निया पेट के अंदर की आंते या अन्य कोई हिस्सा शरीर की मांसपेशियों के बाहर किसी छेंद के माध्यम से निकलने लगती हैं।
अपेंडिक्स शरीर का एक अंग है जो किसी कारण वश संक्रमित होने पर बढ़ने लगता है और आंतों को प्रभावित करता है जिससे आसहनीय दर्द होता है इसे ऑपरेशन कर अतिरिक्त अंग काट देने पर यह ठीक हो जाता है।

निष्कर्ष 

हमने अभी जाना है Hernia kya hota hai? Hernia kya hai? हर्निया के लक्षण क्या है? हर्निया के कारण क्या है? और हर्निया कितने प्रकार के होते है हमे आशा है की यह जानकारी आप को पसंद आई होगी और हर्निया के बारे मे आप सब कुछ जान गए होंगे अगर आप के कोई सवाल है तो कमेंट करे अधिक लोगो तक share करें और भि ऐसी जानकारी आप तक पहुँचती रहे इसके लिए सबस्क्राइब करना न भूलें। 

धन्यवाद!

Share us friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!